जानिए कैसे स्‍टेट बैंक को चौथी तिमाही में हुआ शानदार लाभ…

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने शुक्रवार को 31 मार्च, 2022 को समाप्त चौथी तिमाही में सालाना आधार पर शुद्ध लाभ में 41.2 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की है। उसका शुद्ध लाभ बढ़कर 9,113.5 करोड़ रुपये हो गया है। बैंक ने 7.10 रुपये प्रति शेयर के लाभांश की भी घोषणा की है। बैंक ने 13 मई को मीटिंग में लाभांश तय किया। इसका पेमेंट 10 जून को होगा।

बैंक ने एक साल पहले की अवधि यानि FY21 के Q4 में 6,451 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। एसबीआई का लाभ तीसरी तिमाही में 8 प्रतिशत बढ़कर 8,432 करोड़ रुपये हो गया। ऐसा मुख्य रूप से शुद्ध ब्याज आय (NII) में बढ़ोतरी से हुआ। NII बैंक की आय का मुख्य स्रोत है।

NII बढ़कर 31198 करोड़ रुपये हुआ

तिमाही के दौरान NII 15.26 प्रतिशत बढ़कर 31,198 करोड़ रुपये हो गया, जबकि 2021 की चौथी तिमाही में यह आंकड़ा 27,067 करोड़ रुपये था। तिमाही आधार पर NII वित्त वर्ष 22 की तीसरी तिमाही में रिपोर्ट 1.6 प्रतिशत बढ़कर 30,687 करोड़ रुपये रही थी।

सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां (GNPA) 1.12 लाख करोड़ रुपये रही

एसबीआई की संपत्ति की गुणवत्ता में क्रमिक आधार पर सुधार हुआ है और सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां (GNPA) 1.12 लाख करोड़ रुपये रही, जबकि वित्त वर्ष 22 की तीसरी तिमाही में यह 1.2 लाख करोड़ रुपये थी। शुद्ध एनपीए भी घटकर 27,966 करोड़ रुपये रह गया, जो इससे पिछली तिमाही में 34,540 करोड़ रुपये था। जीएनपीए और एनएनपीए अनुपात भी क्रमश: 53 बीपीएस और 32 बीपीएस क्यूओक्यू से बढ़कर 3.97 प्रतिशत और 1.02 प्रतिशत हो गया।

प्रावधान के तौर पर 7,237.45 करोड़ रुपये अलग रखे

एसबीआई ने प्रावधान के तौर पर 7,237.45 करोड़ रुपये अलग रखे हैं, जिनमें से एनपीए का प्रावधान 3,261.7 करोड़ रुपये था। यह FY22 की तीसरी तिमाही में अलग रखे गए 3,069 करोड़ रुपये के प्रावधान (एनपीए के लिए) से अधिक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

seventeen − five =

Back to top button