बुल्ली बाई ऐप मामले के मास्टर माइंड नीरज बिश्नोई को पुलिस ने असम से किया गिरफ्तार

बुली बाई ऐप मामले में मुख्य आरोपित को दिल्ली पुलिस ने असम से गिरफ्तार गया है। आरोपित का नाम नीरज विश्नोई है। पिछले कई महीने से महिलाओं की तस्वीरें बुल्ली बाई ऐप पर अपलोड कर आपत्तिजनक टिप्पणी करने व घृणा फैलाने में जुटे मुख्य साजिशकर्ता नीरज बिश्नोई चर्चा में था। आखिरकार दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने असम से गिरफ्तार कर लिया है। गिटहब पर इसी ने बुल्ली बाई एप बनाया था और पिछले साल जुलाई माह में बुल्ली बाई नाम से ट्विटर पर एकाउंट भी बनाया था। बिश्नोई की गिरफ्तारी को स्पेशल सेल की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक आपरेशंस यूनिट (आइएफएसओ) की बड़ी कामयाबी माना जा रहा है। असम से विमान से उसे बृहस्पतिवार दोपहर दिल्ली लाया गया।

डीसीपी केपीएस मल्होत्रा के मुताबिक, नीरज मूलरूप से असम का ही रहने वाला है। वह भोपाल स्थित वेल्लोर प्रौद्योगिकी संस्थान से कंप्यूटर साइंस में बीटेक द्वितीय वर्ष का छात्र है। दिल्ली के कोर्ट में पेश कर उसे पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया जाएगा। पूछताछ से पता चल पाएगा कि वह ऐसा क्यों कर रहा था। उससे और कितने लोग जुड़े हैं। उसके बाद उनकी गिरफ्तारी होगी। साइबर सेल मुंबई पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए श्वेता और मयंक रावत से भी पूछताछ करेगी।

बुली बाई ऐप’ मामले में मुंबई में ही अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। इसके अलावा, पुलिस ने इस मामले में एक लड़की को उत्तराखंड के रुद्रपुर से गिरफ्तार किया है।

गौरतलहब है कि 1 जनवरी को ‘बुली बाई ऐप’ से मचे बवाल के बाद मुंबई की साइबर सेल पुलिस ने भी मामला दर्ज कर ऐप से जुड़े 3 लोगों को अब तक गिरफ्तार किया। इस ऐप पर मुस्लिम महिलाओं की तस्वीर आनलाइन पोस्ट कर उन्हें बदनाम किया जा रहा था।

बता दें कि इंजीनियरिंग के छात्र विशाल कुमार झा को सोमवार को ही बेंगलुरु से गिरफ्तार किया गया था।  मुंबई पुलिस ने दो जनवरी को ऐप के बारे में शिकायत मिलने के बाद प्राथमिकी दर्ज की थी, जिसके बाद जांचकर्ताओं ने ऐप और संबंधित ट्विटर हैंडल का तकनीकी विश्लेषण शुरू किया था। इसके बाद विशाल की गिरफ्तारी हुई।

वहीं, मुंबई पुलिस द्वारा पौड़ी जिले के कोटद्वार से दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) जुड़ा गिरफ्तार मयंक बीकाम आनर्स का छात्र है। पुलिस के अनुसार मयंक ने बताया कि वह कुछ दिन पहले एक दोस्त के जरिये बुल्ली बाई एप से जुड़ा था। वह इसमें आने वाले संदेशों को अपने ट्विटर हैंडल में शेयर करता था। चार-पांच पोस्ट के बाद ट्विटर ने उसका अकाउंट ब्लाक कर दिया था। 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 + 8 =

Back to top button