30 C
Lucknow
Wednesday, April 24, 2024

गेहूं की नहीं; इस आटे की रोटी खाएं डायबिटीज के मरीज, कंट्रोल रहेगा शुगर

Print Friendly, PDF & Email

डेस्क। देश में लगातार डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। ज्यादातर इसका कारण गलत खान-पान या मोटापा हो सकता है। इस बीमारी से मरीज के शरीर में इंसुलिन हार्मोन (insulin hormone) का उत्पादन ठीक तरीके से नहीं हो पाता जो खून में शुगर लेवल को मेंटेन रखता है। ऐसे में खून में शुगर बढ़ जाती है। इसलिए डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों को खान-पान का खास ध्यान रखना चाहिए।

यह भी पढ़ें-हार्ट अटैक से भी ज्यादा जानलेवा है कार्डियक अरेस्ट, जानें लक्षण व बचाव के उपाय

अगर आप भी डायबिटीज (Diabetes) के मरीज हैं तो आपको अपने डेली रूटीन में कुछ खास तरह के आटे से बनी रोटियों का सेवन करना चाहिए जिससे आपकी शुगर को कंट्रोल करने में मदद मिलेगी। डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों को लो कार्ब और हाई प्रोटीन (protein) डाइट की सलाह दी जाती है। हाई प्रोटीन (protein) डाइट में डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों को मरीजों गेहूं के आटे (flour) की जगह बेसन, ज्वार और जौ आदि आटे की रोटी खानी चाहिए। अगर आप भी डायबिटीज के मरीज हैं, तो इन रोटियों को जरूर खाएं।

रागी आटा:

डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों के लिए रागी बेहद फायदेमंद माना जाता है। रागी पोषक तत्वों से भरा होता है साथ ही इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर होता है जो ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखने में मदद करता है।

ज्वार:

ज्वार में काफी मात्रा में फाइबर (fiber) होता है। इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी कम होता है जो शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद करता है। ज्वार एक मोटा अनाज है जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है।

बाजरा:

डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों के लिए बाजरे के आटे की बनीं रोटियां काफी फायदेमंद मानी जाती है। क्योंकि बाजरे का ग्लाइसेमिक इंडेक्स (glycemic index) काफी कम होता है, इससे शुगर को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। साथ ही यह वेट मैनेजमेंट में भी काफी मदद करता है।

बेसन:

बेसन की रोटियां सभी के लिए एक बेस्ट और हेल्दी ऑप्शन है। ये पाचन तंत्र (digestive system) के लिए फायदेमंद होती है साथ ही शुगर (Diabetes) के मरीजों के लिए फायदेमंद होती है।

Tag: #nextindiatimes #Diabetes #protien #flour

RELATED ARTICLE