30 C
Lucknow
Saturday, July 13, 2024

चिंता का विषय है बुजुर्गों में बढ़ती डिमेंशिया की बीमारी, जानें इसका उपचार

Print Friendly, PDF & Email

हेल्थ डेस्क। जैसे-जैसे बुजुर्गों (elderly people) की संख्या बढ़ने लगी है वैसे ही डिमेंशिया (dementia) की बीमारी का खतरा भी बढ़ता जा रहा है। बहुत कुछ आज की सामाजिक व्यवस्था व सामाजिक परिवेश डिमेंशिया (dementia) का कारण बनता जा रहा है। एक ओर एकल परिवार, अपने में खोये रहना और दिन-प्रतिदिन की भागमभाग है तो दूसरी और पढ़ने-पढ़ाने की आदत कम होना, प्रमुख कारण है।

यह भी पढ़ें-युवाओं में तेजी से बढ़ रही मधुमेह की शिकायत, बचाव के लिए अपनाएं ये उपाय

दुनिया में डिमेंशिया (dementia) प्रभावितों की संख्या में दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की मानें तो अगले 25 साल में डिमेंशिया की रोगियों की संख्या में तीन गुणा बढ़ोतरी हो जाएगी। डिमेंशिया (dementia) खासतौर से बुजुर्गों की होने वाली बीमारी (disease) है। इसमें मनोभ्रांति की स्थिति हो जाती है और भूलने या निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित होती है। इसमें बुजुर्ग (elderly people) धीरे-धीरे अपनी याददाशत को खोने लगते हैं। भारत के संदर्भ में यह इसलिए गंभीर हो जाती है कि चीन और जापान की तरह भारत में भी आने वाले सालों में बुजुर्गों की संख्या अधिक हो जाएगी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार दुनिया के देशों में डिमेंशिया (dementia) की बीमारी से पांच करोड़ लोग जूझ रहे हैं। एक अध्ययन के अनुसार 2050 तक डिमेंशिया (dementia) से प्रभावितों की संख्या 15 करोड़ से अधिक होने की संभावना है। दुनिया के देशों में हर साल करीब 10 लाख लोग इस (dementia) बीमारी की गिरफ्त में आ रहे हैं। वाशिंगटन विश्वविद्यालय के अध्ययन के अनुसार अफ्रीका के उपसहारा क्षेत्र, उत्तरी अफ्रीका और मध्यपूर्व में डिमेंशिया के रोगियों (patients) की संख्या अधिक बढ़ रही है।

डिमेंशिया (dementia) को रोका नहीं जा सकता है, लेकिन अपने जीवन में कुछ बदलाव लाकर इसके खतरे को कम किया जा सकता है। कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) के निर्माण को रोकने के लिए ब्लड वेसल्स क्लियर रख,सामान्य ब्लड प्रेशर,हेल्दी ब्लड शुगर लेवल, हेल्दी वेट, आदि की मदद से डिमेंशिया (dementia) का जोखिम कम किया जा सकता है। इसे अलावा निम्न बदलाव भी जरूरी हैं-

-धूम्रपान (smoking) बंद करें।
-लोगों के साथ बातचीत करें।
-दिल और दिमाग को व्यस्त रखें।
-रोजाना कम से कम 30 मिनट तक व्यायाम (Exercise) करें।
-हेल्दी डाइट जैसे साबुत अनाज, सब्जियां, फल, मछली और शंख, नट्स, बीन्स
-अपने दिमाग को एक्टिव रखने के लिए ऑप्टिकल इल्यूजम, पजल आदि की मदद लें।

Tag: #nextindiatimes #dementia #Exercise #disease

RELATED ARTICLE