22 C
Lucknow
Sunday, March 3, 2024

पत्नी को CM पद की कमान सौंपने पर हेमंत सोरेन ने तोड़ी चुप्पी, कही बड़ी बात

Print Friendly, PDF & Email

झारखंड। झारखंड (Jharkhand) की सियासत भी बिहार के लालू राज की राह पर है। जिस तरह लालू ने राबड़ी देवी को मुख्यमंत्री की कमान दे दी थी वैसे ही झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) की पत्नी कल्पना (Kalpana) को मुख्यमंत्री बनाये जाने की अटकलों के बीच राज्य में सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के गठबंधन ने बुधवार को यहां अपने विधायकों की बैठक बुलाई है।

यह भी पढ़ें-BJP विधायक के बेटे ने खूब मचाया उत्पात, कारनामा सुन दंग रह जाएंगे आप

हालांकि कल्पना (Kalpana) को मुख्यमंत्री बनाये जाने की बात पर सहयोगी दल भी तैयार हैं। आपको बता दें कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) को ईडी के हालिया समन और सोमवार को झामुमो के एक विधायक सरफराज अहमद के अचानक इस्तीफे के बाद ये अटकलें तेज हो गई हैं। इस बीच मुख्यमंत्री (Hemant Soren) ने कहा कि उनकी पत्नी के विधानसभा चुनाव लड़ने की संभावना सिर्फ भाजपा की कल्पना है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा झूठा विमर्श पेश कर रही है कि वह राज्य की सत्ता अपनी पत्नी को सौंप देंगे।

झारखंड (Jharkhand) में चल रहे सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने मंगलवार को कहा कि वह पत्नी कल्पना को सत्ता नहीं सौंप रहे हैं। यह भाजपा (BJP) का मनगढ़ंत दावा है। हेमंत ने उनकी पत्नी के राज्य के गांडेय विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की अटकलों को भी खारिज कर दिया। सोरेन (Hemant Soren) ने कहा कि इन अटकलों में रत्ती भर भी सच्चाई नहीं है। निकट भविष्य में उनकी पत्नी के चुनाव लड़ने या उन्हें बागडोर सौंपने की संभावना का पूरा ताना-बाना भाजपा ने ही बुना है।

हेमंत सोरेन नहीं देंगे इस्तीफा, राज्यपाल के फैसले पर निर्भर आगे की रणनीति - hemant  soren resignation jharkhand politics governor ntc - AajTak

गौरतलब है कि ईडी (ED) की जांच झारखंड में “माफिया द्वारा भूमि के स्वामित्व में अवैध परिवर्तन के एक बड़े रैकेट” से संबंधित है। सोरेन (Hemant Soren) ने केंद्र सरकार पर लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई राज्य सरकार को अस्थिर करने के लिए केंद्रीय एजेंसियों का उपयोग करने का आरोप लगाते हुए ईडी के पहले के छह समन को नजरअंदाज कर दिया है। सातवां समन पिछले साल दिसंबर में जारी किया गया था। उन्होंने समन को “अनुचित” बताते हुए ईडी की कार्रवाई से संरक्षण का अनुरोध करते हुए उच्चतम न्यायालय और झारखंड उच्च न्यायालय के समक्ष याचिकाएं दायर की थीं। फिलहाल दोनों अदालतों ने उनकी याचिकाएं खारिज कर दीं।

Tag: #nextindiatimes #ED #HemantSoren #kalpana #CM

RELATED ARTICLE

close button