37 C
Lucknow
Sunday, June 23, 2024

मंत्री पद को लेकर NDA में खटपट शुरू, सीपी चौधरी ने दे डाली खुली चुनौती

Print Friendly, PDF & Email

रांची। गिरिडीह से आजसू (AJSU) के निर्वाचित सांसद और वरीय उपाध्यक्ष चंद्रप्रकाश चौधरी (Chandprakash Chaudhary) मंत्री पद नहीं मिलने के कारण भाजपा (BJP) से नाराज हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में इसका खामियाजा भाजपा (BJP) को भुगतना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें-इन राज्यों में बुरी तरह फंसी BJP, 400 की बजाय अब 300 के लिए कर रही संघर्ष

दिल्ली में कैंप किए हुए चंद्रप्रकाश (Chandprakash Chaudhary) ने कहा कि सब कुछ सिस्टम के मुताबिक हो रहा था और उनका नाम भी लिस्ट में था, लेकिन पता नहीं क्यों और कैसे अंतिम समय में उनका नाम कट गया। उन्होंने कहा कि यह कैसे हुआ और इसके बारे में भाजपा (BJP) से पूछा जाना चाहिए। आदिवासी (tribals) पहले से नाराज हैं और अब कुर्मी समाज भी नाराज होगा।

चंदप्रकाश चौधरी (Chandprakash Chaudhary) ने कहा कि उन्हें, नहीं तो उनके समाज के किसी और को मंत्री बना देते। ऐसे में तो यह महसूस होता है कि आजसू (AJSU) के प्रति उनकी मंशा ठीक नहीं है। पिछली सरकार में भी उन्हें मंत्री पद नहीं दिया गया था। चंद्रप्रकाश (Chandprakash Chaudhary) ने कहा कि इस बारे में पार्टी अध्यक्ष भाजपा (BJP) के शीर्ष नेतृत्व से बात करेंगे। उन्होंने कहा कि गठबंधन में शामिल वैसे दलों को भी मंत्री पद दिया गया जो चुनाव हार चुके हैं, लेकिन उन्हें नहीं दिया गया। यह काफी गलत हुआ है।

बता दें कि आजसू (AJSU) और बीजेपी का झारखंड (Jharkhand) में पुराना गठबंधन है, 2019 का विधानसभा को छोड़ दिया जाए तो दोनों पार्टी एक साथ मिलकर चुनाव लड़ती रही है, आजसू के वोटर कई सीटों पर जीत और हार को तय करते है। इस साल के अंत में झारखंड (Jharkhand) विधानसभा का चुनाव होना है, ऐसे में आजसू (AJSU) को दरकिनार करना बीजेपी (BJP) को नुकसान पहुंचा सकता है। हालांकि इस मामले पर अब तक पार्टी के सुप्रीमो सुदेश महतो का कोई बयान नहीं आया है।

Tag: #nextindiatimes #AJSU #BJP #ChandprakashChaudhary

RELATED ARTICLE