24 C
Lucknow
Saturday, February 24, 2024

मुनव्वर राना को जावेद अख्तर ने दिया कंधा, जनाजे में पहुंचे अखिलेश यादव

Print Friendly, PDF & Email

लखनऊ। मशहूर शायर मुन्नव्वर राना (Munawwar Rana) का रविवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। आज उनके जनाजे को कंधा देने के लिए सपा (SP) प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और मशहूर फिल्म लेखक व गीतकार जावेद अख्तर पहुंचे। जहां उन्होंने शोक संतृप्त परिवार को सांत्वना दी। जावेद अख्तर ने शायर मुनव्वर राणा (Munawwar Rana) के जनाजे को कंधा दिया।

यह भी पढ़ें-मशहूर शायर मुनव्वर राणा का निधन, लखनऊ के PGI में ली अंतिम सांस

जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने कहा, ”शायरी और उर्दू का यह एक बड़ा नुकसान है… मुझे इसका बेहद अफसोस है। यह नस्ल एक-एक करके जा रही है और इसकी भरपाई नहीं हो पाएगी, उनकी कमी हमेशा खलेगी… उनकी (Munawwar Rana) शायरी प्रेरक है, उनके लिखने का अपना अंदाज था। अच्छी शायरी करना मुश्किल है, लेकिन उससे भी ज़्यादा मुश्किल है अपनी शायरी करना।”

समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) भी मुनव्वर राना के आवास पर उन्‍हें श्रद्धांजल‍ि देने पहुंचे थे। अखिलेश यादव ने कहा, “मुनव्वर राणा (Munawwar Rana) देश के बड़े शायर थे… ऐसे शायर बहुत कम होते हैं जो कई मौकों पर बहुत स्पष्ट होते हैं… मैं प्रार्थना करूंगा कि भगवान उनके परिवार को यह दुख सहने की हिम्मत दें।”

मन में कोई बात होती थी तो जाहिर कर देते थे मुनव्‍वर राना...अखिलेश ने दी  अंतिम विदाई, जावेत अख्‍तर भी आए - lucknow news akhilesh yadav and javed  akhtar pay tribute to

मुनव्वर राना (Munawwar Rana) का 71 वर्ष की आयु में रविवार रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। काफी समय से बीमार चल रहे राना यहां संजय गांधी पीजीआई (PGI) में भर्ती थे। सोमवार को उन्हें लखनऊ (Lucknow) के ऐशबाग कब्रिस्तान में सिपुर्द-ए-खाक किया जाएगा। मुनव्वर राना (Munawwar Rana) उर्दू साहित्य के बड़े नाम थे। 26 नवंबर 1952 को रायबरेली में जन्मे राना को 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया था।

Tag: #nextindiatimes #MunawwarRana #JavedAkhtar #lucknow

RELATED ARTICLE

close button