22 C
Lucknow
Sunday, March 3, 2024

भीमराव अम्बेडकर की जीवनी और उनके द्वारा चलाये गये आंदोलन और संविधान।

Print Friendly, PDF & Email

 

भीमराव रामजी अम्बेडकर, जिन्हें डॉ. बी.आर. के नाम से जाना जाता है। अम्बेडकर एक प्रमुख भारतीय न्यायविद्, समाज सुधारक और राजनीतिज्ञ थे जिन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 14 अप्रैल, 1891 को महू (अब मध्य प्रदेश, भारत में) में जन्मे अंबेडकर अछूत महार जाति से थे, और उन्हें कम उम्र से ही भेदभाव और सामाजिक बहिष्कार का सामना करना पड़ा।

यहां डॉ. बी.आर. की संक्षिप्त जीवनी दी गई है।

प्रमुख आंदोलनों और भारतीय संविधान में उनके योगदान के साथ अम्बेडकर:

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा:
अम्बेडकर को अपनी शिक्षा के शुरुआती वर्षों में अपनी जाति के कारण भेदभाव का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने दृढ़ता बनाए रखी और शिक्षा में उत्कृष्टता हासिल की।
उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में अपनी पढ़ाई पूरी की और कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों से कई डिग्रियां हासिल कीं।
सामाजिक सुधार आंदोलन:
दलित आंदोलन:

अम्बेडकर दलित (पहले अछूत कहे जाने वाले) समुदाय के एक प्रमुख नेता बने और सामाजिक भेदभाव के खिलाफ लड़े।
उन्होंने दलितों के अधिकारों की वकालत की, जाति व्यवस्था को चुनौती दी और उनके सामाजिक और आर्थिक उत्थान को बढ़ावा दिया।

मंदिर प्रवेश आंदोलन:

अम्बेडकर ने धार्मिक स्थानों में छुआछूत की सदियों पुरानी प्रथा को चुनौती देते हुए, दलितों के हिंदू मंदिरों में प्रवेश के अधिकार के लिए आंदोलनों का नेतृत्व किया।

जाति का उन्मूलन:

अम्बेडकर ने “जाति का उन्मूलन” नामक एक शक्तिशाली भाषण दिया, जिसमें जाति व्यवस्था की आलोचना की गई और इसके पूर्ण उन्मूलन का आह्वान किया गया।

राजनीतिक कैरियर:

अम्बेडकर को 1947 में भारत के संविधान की मसौदा समिति के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने देश के कानूनी और संवैधानिक ढांचे को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

भारतीय संविधान में योगदान:

अम्बेडकर भारतीय संविधान के एक प्रमुख वास्तुकार थे, और एक न्यायपूर्ण और समतावादी समाज के लिए उनका दृष्टिकोण इसके प्रावधानों में परिलक्षित होता है।
उन्होंने सामाजिक न्याय, समानता और हाशिए पर रहने वाले समुदायों के अधिकारों की सुरक्षा की वकालत की।
उनके प्रयासों से शिक्षा और रोजगार में अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी) और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लिए आरक्षण जैसे सकारात्मक कार्रवाई उपायों को शामिल किया गया।

व्यक्तिगत उपलब्धियां:

अम्बेडकर को स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया और उन्हें संविधान मसौदा समिति के अध्यक्ष के रूप में भी नियुक्त किया गया।

उन्होंने भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
परंपरा:
डॉ. बी.आर. भारतीय संविधान और सामाजिक सुधार में अम्बेडकर के योगदान ने उन्हें “भारतीय संविधान के जनक” की उपाधि दिलाई।
उनका जीवन और कार्य भारत में सामाजिक न्याय और समानता के लिए आंदोलनों को प्रेरित करते रहे।

डॉ. बी.आर. 6 दिसंबर, 1956 को अंबेडकर का निधन हो गया, लेकिन उनकी विरासत कायम है, और उनकी शिक्षाएं भारत में सामाजिक न्याय और समानता पर चर्चा को आकार देती रहती हैं।

RELATED ARTICLE

close button