//

No icon

रीति रिवाज

शादी के लिए लड़की की कम उम्र कितनी जरूरी होती है ?

रिलेशनशिप या शादी के लिए लड़के और लड़कियों के बीच उम्र का फासला रखा जाता है। अधिकांश मामलों में लड़के की उम्र लड़की से अधिक होती है ऐसा क्यों होता है? इसकी सही वजह का पता नहीं लेकिन लड़के की उम्र लड़की से ज्यादा होने के पीछे तर्क बहुत दिए जाते हैं।

कुछ लोग तर्क देते हैं कि यदि लड़का उम्र बड़ा होगा तो वह लड़की से ज्यादा समझदार और अनुभवी होगा और जीवन और रोजना के मामलों में उचित फैसले ले सकता है।

कुछ लोगों का तर्क है लड़कियां व्यव्हारिक रूप से काफी इमोशनल होती हैं। और यदि लड़के की उम्र लड़की से अधिक होगी तो वह उसे इमोशनली सहारा दे सकता है।

लड़के की उम्र ज्यादा होने के पीछे कुछ लोग तर्क देते हैं कि पुरुषों में ढलती उम्र के लक्षण महिलाओं की तुलना में देर से नजर आते हैं, जबकि महिलाएं जल्दी उम्रदराज नजर आने लगती हैं, ऐसे में उनकी उम्र कम होना ठीक है। लेकिन इस तर्क का कोई खास बायोलॉजिकल आधार नहीं है। बहुत से पुरुष वक्त के पहले ही उम्रदराज दिखने लगते हैं। पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा होती है।

कहा ये भी जाता है कि यदि लड़का और लड़की दोनों की उम्र समान होगी तो लड़की लड़के को उस तरह का सम्मान नहीं देगी जैसा कि पति को मिलना चाहिये। ऐसी स्थिति दोनों के बीच एक अहम की लड़ाई शुरू हो जाएगी और लड़ाई-झगड़े और गृहक्लेश जैसे मामले बढ़ेंगे।

पुराने समय से चली आ रही सामाजिक प्रथा भी समाज में लड़के की उम्र लड़की की उम्र से अधिक होने पर जोर देती चली आई है जिसे आज तक ढोया जा रहा है। हमारा कानून भी शादी के लिए लड़के की अधिक उम्र को वरीयता देता है।

महिलावादी विचाराधारा के लोगों की मानें तो हमारा समाज महिलाओं को बराबरी का स्थान नहीं देना चाहता और हमेशा महिलाओं को समाज में नीचा दिखाना चाहता है इसीलिए ऐसी प्रथा एक लंबे समय से चली आई है।


TOP