केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह ने जवाहरलाल नेहरू सरकार पर लगाया ये आरोप

केंद्रीय मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि जवाहरलाल नेहरू सरकार ने लार्ड माउंटबेटन को खुश रखने के लिए 1948 के युद्ध में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को हासिल नहीं किया। मुंबई आतंकी हमले की बरसी से एक दिन पहले एक कार्यक्रम में वीके सिंह ने यह भी दावा किया कि हमले के षडयंत्रकारियों द्वारा उपयोग किए गए कुछ फोन नंबर पहले ही ‘आईबी’को दिए जा चुके थे और हमले पर भारत बेहतर तरीके से जवाब दे सकता था। पूर्व थल सेनाध्यक्ष सिंह ने कहा कि देश के रक्षा बलों में पीओके को वापस लेने की क्षमता है और आदेश मिलते ही वे यह कार्य कर सकते हैं। 

उन्होंने दावा किया, “हम 1948 में ही पीओके को हासिल कर कर सकते थे, लेकिन उस समय की सरकार ने कहा, अभी नहीं, हमारे माउंटबेटन अप्रसन्न हो जाएंगे, और रुक गई।” लॉर्ड माउंटबेटन उस समय स्वतंत्र भारत के गवर्नर जनरल थे। सिंह ने कहा, “अगर हमें आज मौका मिले,तो हमारी सेनाएं तैयार हैं। सैन्य दृष्टिकोण से, इस पर चर्चा करने की या जोर देने की कोई आवश्यकता नहीं है। मुझे लगता है, आप जो भी करना चाहते हैं, उसे अपने दिमाग में रखें और जब भी आपको आदेश मिले, आप कर दें। इस पर चर्चा करने की कोई जरूरत नहीं है।” 

मुंबई आतंकी हमले की 14वीं बरसी पर दक्षिणपंथी पत्रिका पांचजन्य द्वारा ’26/11 मुंबई संकल्प’ नामक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। वीके सिंह ने कहा कि विगत में, जब भारत ने बातचीत की पहल की तो पाकिस्तान को लगा कि वह आतंकवाद के कारण डरा हुआ है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के आम लोग, उसकी सरकार और उसके सशस्त्र बल अलग-अलग स्वर में बोलते हैं और “यह एक बदलाव है जिसे हम देख रहे हैं।” 

Related Articles

Back to top button