यूक्रेन ने रूस के एक कैदी को छोड़ने की घोषणा

Russia Ukraine Conflict: रूस और यूक्रेन के बीच पिछले कुछ दिनों में तनातनी और बढ़ी है. वहीं युद्ध खत्म होने की संभावना कम ही हुई है, लेकिन तनाव के बीच यूक्रेन ने गुरुवार तड़के रूस के एक कैदी को छोड़ने की घोषणा की. हालंकि इसके बदले में रूस को भी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है और उसे यूक्रेन के उन सैकड़ों लड़ाकों को छोड़ना पड़ा है, जो रूस के हमले के दौरान मारियुपोल में एक इस्पात संयंत्र की रक्षा के दौरान पकड़े गए थे. यूक्रेन कई महीनों से इनको मुक्त कराने के प्रयास कर रहा था और इनके बदले में वह जिस कैदी को छोड़ रहा है वह रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का काफी करीबी है.

यूक्रेन के राष्ट्रपति ने की पुष्टि

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा कि उनकी सरकार ने रूस के कब्जे से 215 यूक्रेनी नागरिकों और विदेशियों को मुक्त करा लिया है. इनमें से कई ऐसे सैनिक और अधिकारी हैं जिन्हें रूस के कब्जे वाले क्षेत्र में मौत की सजा मिली थी. वहीं रूसी अधिकारियों ने अभी कैदियों की इस अदला-बदली पर कोई टिप्पणी नहीं की है. रिपोर्ट के मुताबिक, इस डील के तहत रूस समर्थित विपक्षी नेता विक्टर मेदवेदचुक की रिहाई के बदले में रूस कुल 215 यूक्रेनी कैदियों को रिहा करेगा.

पुतिन के इस करीबी को छोड़ रहा यूक्रेन

मेदेवेदचुक यूक्रेनी नागरिक हैं. कुलीन वर्ग से आने वाले 68 वर्षीय मेदवेदचुक 24 फरवरी को रूस के आक्रमण से कई दिनों पहले यूक्रेन में नजरबंदी से फरार हो गए थे लेकिन उन्हें अप्रैल में फिर से पकड़ लिया गया था. उन्हें राजद्रोह व पूर्वी यूक्रेन में रूस समर्थित दोनेत्स्क क्षेत्र में कोयला खरीदने में एक आतंकवादी संगठन की सहायता करने के आरोपों में ताउम्र कैद की सजा सुनाई गई थी. मेदवेदचुक की सबसे छोटी बेटी पुतिन की करीबी मानी जाती है. उन्हें हिरासत में लिए जाने के बाद मॉस्को के अधिकारियों ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी. मेदवेदचुक यूक्रेन की रूस समर्थित ‘ऑपोजिशन प्लेटफॉर्म-फॉर लाइफ’ पार्टी की राजनीतिक परिषद के प्रमुख हैं. यह यूक्रेन की संसद में सबसे बड़ा विपक्षी समूह है. यूक्रेन सरकार ने पार्टी की गतिविधि निलंबित कर दी है.

यूएन के महासचिव ने भी किया स्वागत

जेलेंस्की ने कहा कि कैदियों की एक और अदला-बदली में यूक्रेन ने 55 रूसी कैदियों को रिहा करने के बदले में 5 और नागरिकों को मुक्त कराया है. वहीं, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कैदियों की अदला-बदली का स्वागत करते हुए कहा, ‘यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है. यूक्रेन में युद्ध से हुई पीड़ा को कम करने के लिए अभी और बहुत कुछ किया जाना बाकी है.’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button