ब्रिटेन सरकार ने लोगों से घरों में इस्तेमाल की जाने वाली उर्जा खपत पर खास ध्यान देने का किया आग्रह

यूक्रेन पर हमले के बीच रूस ने यूरोपीय संघ में प्राकृतिक गैस की आपूर्ति (Natural Gas Supply) में जमकर कटौती की है। इससे यूरोपीय प्रांत के देशों में गंभीर उर्जा संकट पैदा हो चुका है। ब्रिटेन की सरकार आगामी ठंड के लिए उर्जा बचाने की हर मुमकिन कोशिश कर रही है। इस बीच ब्रिटेन के चांसलर नदीम जाहवी ने बढ़ते दामों को लेकर लोगों से उनके घरों में उर्जा के इस्तेमाल पर खास ध्यान देने का आग्रह किया है।

ऊर्जा के उपयोग पर ध्यान देने की जरूरत

चांसलर नादिम जाहावी ने कहा कि ब्रिटेन (Britain) के परिवारों को यह देखने की जरूरत है कि वे ऊर्जा का उपयोग कैसे कर रहे हैं। जाहावी ने कहा कि गैस की किल्लत के बीच उर्जा आपूर्ति की ओर विशेष सतर्कता बरतने की दरकार है।

ब्रिटेन अभी से ही बिजली और बिजली उद्योग उत्पन्न करने वाली गैस की कमी से जूझ रहा है। चांसलर ने कहा कि यह किल्लत अगले साल जनवरी या शायद अप्रैल तक जारी रह सकती है। इसलिए अगले साल तक हमें उर्जा खपत को लेकर और लचीला रहना होगा। जाहवी ने कहा कि यह हम सबके लिए एक कठिन समय है।

प्रधानमंत्री ने ऊर्जा कीमतें घटने का आश्वासन दिया

बता दें कि गैस आपूर्ति में कमी के कारण ब्रिटेन में उर्जा के दामों में काफी इजाफा हुआ है। निवर्तमान प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (UK Prime Minister) ने आने वाले कुछ महीने के और “कठिन” होने की भविष्यवाणी की, लेकिन वादा किया कि ऊर्जा की कीमतें नीचे आ जाएंगी।

पिछले हफ्ते जर्मनी के अर्थव्यवस्था मंत्री रॉबर्ट हेबेक ने आशंका जताई कि सर्दियों में गैस आपूर्ति में कमी के कारण लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

गैस सप्लाई बंद कर सकता है रूस

गैस की किल्लत को देखते हुए यूरोपीय कमीशन इसकी खपत को कम करने को लेकर लगातार अपील कर रहा है। पिछले माह कमीशन ने कहा था बची हुई गैस का इस्‍तेमाल सर्दियों में किया जा सकेगा, क्‍योंकि रूस कभी भी गैस की सप्‍लाई को रोक सकता है। इसलिए झरूरत न पड़ने पर इमारतों को तय तापमान से अधिक गर्म न रखा जाए।

Related Articles

Back to top button