कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की प्रतिक्रिया -बोले – न हम डरेंगे और ना इन्हें डराने देंगे

नेशनल हेराल्ड अखबार से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग केस में प्रवर्तन निदेशालय ने दिल्ली और कोलकाता सहित 12 ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई की है। जांच एजेंसी की इस कार्रवाई के बीच कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की प्रतिक्रिया सामने आई है। राहुल ने फेसबुक पोस्ट करते हुए कहा है कि ‘खुद को अकेला मत समझना, कांग्रेस आपकी आवाज़ है और आप कांग्रेस की ताकत। न हम डरेंगे और न इन्हें डराने देंगे।’ 

बता दें कि इस मामले में ED ने गत माह कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से पूछताछ की थी। सोनिया गांधी से ईडी की पूछताछ के विरोध में कांग्रेस ने पूरे देश में जमकर हंगामा मचाया था, कई जगह ट्रेनें रोक दी गई थीं और सड़क पर कार में आग लगा दी गई थी। इससे पहले जब राहुल गांधी से ईडी ने पूछताछ की थी, जब भी कांग्रेस सड़कों पर हंगामा कर रही थी। अब राहुल ने ED की कार्रवाई के बाद फेसबुक पर पोस्ट करते हुए लिखा है कि, ‘खुद को अकेला मत समझना, कांग्रेस आपकी आवाज़ है, और आप कांग्रेस की ताक़त, तानाशाह के हर फ़रमान से, जनता की आवाज़ दबाने की हर कोशिश से हमें लड़ना है। आपके लिए, मैं और कांग्रेस पार्टी लड़ते आ रहे हैं, और आगे भी लड़ेंगे।’

राहुल ने आगे लिखा कि ‘आज देश में किन मुद्दों पर विचार-विमर्श होना चाहिए, ये आप अच्छे से जानते हैं क्योंकि सरकार की हर ग़लत नीति का असर आपके जीवन पर पड़ रहा है। इस मानसून सत्र में हम सरकार से जनता के सवालों के जवाब माँगना चाह रहे थे, लेकिन आप सब ने देखा कैसे सरकार ने विपक्ष के लोगों को निलंबित करवाया, हमारे द्वारा विरोध करने पर हमें गिरफ़्तार करवाया, सदन स्थगित करवाया, और कल जब चर्चा हुई भी तो सरकार ने साफ कहा कि ‘महंगाई जैसी कोई समस्या है ही नहीं’!’ 

अपने फेसबुक पोस्ट में राहुल गांधी ने आगे लिखा कि, ‘देश बेरोज़गारी की महामारी से जूझ रहा है, करोड़ों परिवारों के पास स्थिर आय का कोई साधन नहीं बचा। लेकिन सरकार सिर्फ़ एक ‘अहंकारी राजा’ की छवि चमकाने में अरबों रुपए फूंक रही है। महंगाई और ‘गब्बर सिंह टैक्स’ आम आदमी की आय पर सीधा प्रहार है। आज की वास्तविकता ये है कि आम इंसान अपने सपनों के लिए नहीं बल्कि 2 वक्त की रोटी के लिए संघर्ष कर रहा है।  ये सरकार चाहती है आप बिना सवाल किए तानाशाह की हर बात को स्वीकार करें। मैं आप सबको विश्वास दिलाता हूं, इनसे डरने की और तानाशाही सहने की ज़रुरत नहीं है। ये डरपोक हैं, आपकी ताकत और एकता से डरते हैं, इसलिए उसपर लगातार हमला कर रहे हैं। अगर आप एकजुट हो कर इनका सामना करोगे, तो ये डर जाएँगे। मेरा आपसे वादा है, न हम डरेंगे और न इन्हें डराने देंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

seventeen − nine =

Back to top button