आपको भी परेशांन कर रहा साइटिका का दर्द, तो जरुर आजमाए ये आसान से योगासन ,उसका कारगर इलाज

साइटिका दर्द एक असहनीय दर्द बन सकता है अगर इसका सही समय पर इलाज न किया गया तो। वैसे तो कई तरह के उपचार इसके लिए उपलब्ध है लेकिन शुरुआती स्टेज में कुछ खास योगासनों की मदद से काफी हद तक इससे राहत पाया जा सकता है। तो आइए जानते हैं इन योगासनों के बारे में।

क्या है साइटिका?

साइटिक तंत्रिका हमारे शरीर की सबसे लंबी तंत्रिका है। चोट, गलत पोश्चर से इस तंत्रिका पर दबाव पड़ता है, जिससे पीठ के निचले हिस्से में दर्द शुरू हो जाता है और धीरे-धीरे यह कूल्हे और पैर तक भी पहुंच जाता है। जिससे चलने, बैठने और खड़े होने में बहुत प्रॉब्लम होती है।

भुजंगासन

jagran

इस आसन को करने के अनेकों लाभ हैं जिसमें से एक है साइटिका पेन में आराम। क्योंकि यह पीठ के निचले हिस्से और रीढ़ को एक अच्छा खिंचाव देता है। 

शलभासन

jagran

शलभासन योग पीठ के निचले हिस्से के हर एक भाग को मजबूत करता है और वहां ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ावा देता है।

सेतुबंधासन

jagran

सेतुबंधासन पीठ और जांघों को मजबूत बनाने का काम करता है साथ ही वहां की मसल्स को भी स्ट्रेच करता है। हिप फ्लेक्सर्स को लंबा करता है। साइटिका दर्द वाली जगहों में ब्लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है इस आसन को करने से और इससे दर्द भी गायब हो जाता है। 

सर्वांगासन

jagran

सर्वांगासन में पैरों को ऊपर करना होता है जिससे पैर के साथ ही हिप्स और कमर की ओर ब्लड का सर्कुलेशन सही और थोड़ा तेज हो जाता है। जिससे वहां की मसल्स को आराम मिलता है। इस आसन से ब्लड और ऑक्सीजन की बराबर मात्रा दर्द वाली जगह पर पहुंचती है जिससे दर्द में राहत मिलती है। 

थ्रेड नीडल पोज़

jagran

थ्रेड नीडल पोज़ साइटिका से सबसे ज्यादा फायदेमंद योग है। क्योंकि यह आसन हिप्स और उसके आसपास के क्षेत्रों और जांघों की मसल्स को स्ट्रेच करता है जिससे दर्द में बहुत आराम मिलता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen − eight =

Back to top button