मेरठ में बढ़ सकती है मतदेय स्थलों की संख्या..

 मेरठ में निकाय चुनाव को लेकर तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। निकाय चुनाव में 1371 मतदान स्थलों पर होगा मतदान।145 सेक्टर्स में बांटा जाएगा जिला करीब 40 जोन बनाएं जाएंगे। रणनीति बन रही है।फिलहाल मतदाता सूची के पुनरीक्षण का कार्य जारी है और तेजी से युवा अपना नाम मतदाता सूची में दर्ज कराए रहे हैं। अधिक मतदाताओं की संख्या होने पर मतदेय स्थलों की संख्या में भी वृद्धि संभव है। वर्ष 2017 में हुए चुनाव के दौरान नगर निकाय में 14,33,142 मतदाता थे। इस बार मतदाताओं की संख्या 15 लाख से अधिक होने की उम्मीद है। 

 मेरठ में जिला प्रशासन द्वारा स्थानीय निकाय चुनाव को लेकर तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। मतदान केंद्रों पर व्यवस्था बनाने से लेकर मतदाता सूची के पुनरीक्षण का कार्य पूर्ण किया जा रहा है। साथ ही चुनाव संपन्न कराने के लिए सबसे अधिक जरूरी अनुभव वाले अधिकारियों और कर्मचारियों की सूची भी तैयार की जा रही है।

जिम्‍मेदारी दी जाएगी

चुनाव संपन्न कराने के लिए 6,000 अधिकारी व कर्मचारियों को प्रशिक्षण देकर तैयार किया जाएगा। नगरीय निकाय चुनाव संपन्न कराने के लिए चुनाव का अनुभव रखने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के चयन पर अधिक जोर दिया जा रहा है। अधिकारियों को जहां वरिष्ठता के आधार पर आरओ, एआरओ व जोनल और सेक्टर मजिस्ट्रेट की जिम्मेदारी दी जाएगी।

डाटा किया जा रहा एकत्रित

वहीं विभिन्न विभागों में कार्यरत कर्मचारियों को भी वरिष्ठता के आधार पर पीठासीन अधिकारी, सहायक के रूप में तैनात किया जाएगा। वर्तमान में प्रदेश सरकार के आधीन सभी विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों को डाटा एकत्रित किया जा रहा है। निकाय चुनाव 1371 मतदेय स्थल पर होगा और एक मतदेय स्थल पर पीठासीन अधिकारी सहित चार लोग तैनात रहेंगे। इसके अलावा 25 प्रतिशत कर्मचारियों को रिजर्व में रखा जाएगा। ऐसे में सभी जिम्मेदारियों के निर्वाह के लिए करीब 6,000 अधिकारियों व कर्मचारियों की जरूरत होगी। इसके अलावा बीएलओ व अन्य कार्य के लिए कर्मचारियों को अलग से लगाया जाएगा।

Related Articles

Back to top button