लखनऊ में डेंगू की चपेट में आई एक शिक्षिका की मौत

 डेंगू के मामलों में बिल्कुल भी गिरावट नहीं आ रही है। लखनऊ में हर दिन 20 से ज्यादा नए मरीज संक्रमित हो रहे हैं। डेंगू की चपेट में आई एक शिक्षिका की मौत हो गई।

डेंगू के मरीजों की संख्या अब भी कम नहीं हो रही है। रविवार को सरोजनी नगर के माती गांव में तैनात 46 वर्षीय शिक्षिका की डेंगू से मौत हो गई। इसके अलावा विभिन्न क्षेत्रों से 24 नए संक्रमित पाए गए हैं। डेंगू के मामले में हल्की भी लापरवाही लोगों के लिए भारी पड़ सकती है। डाक्टरों का कहना है कि इस वायरल की चपेट में आने के बाद बिना चिकित्सक परामर्श के कोई भी दवा लेना खतरनाक साबित हो सकता है।

सरोजनी नगर विकासखंड के परिषदीय विद्यालय माती में बतौर व्यायाम शिक्षिका कार्यरत महिला एल्डिको निवासी थीं। उन्हें डेंगू की आशंका पर पिछले सप्ताह डेंटल अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। हालत गंभीर होने पर उन्हें संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट (पीजीआई) में रेफर कर दिया गया। जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। भारतीय नागरिक परिषद की महामंत्री विनय त्रिपाठी ने बताया कि वह शिक्षिका के साथ समाज सेविका भी थी। नशा मुक्ति अभियान कौशल के साथ जोड़कर कई लोगों को नशे की प्रवृत्ति से दूर कर चुकी थीं। उनकी मौत से शिक्षकों के बीच शोक व्याप्त है। शिक्षिका की श्रद्धांजलि का कार्यक्रम पांच नवंबर को मोती गांव के उच्च प्राथमिक विद्यालय में किया जाएगा। राजधानी के अलग-अलग सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में 24 नए डेंगू संक्रमित मिले हैं।

चंदरनगर में पांच, अलीगंज में चार, नवल किशोर रोड में चार, नवल किशोर रोड में चार, ऐशबाग में चार और सिल्वर जुबली में तीन नए मामले सामने आए हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय के प्रवक्ता योगेश रघुवंशी के अनुसार सीएमओ की टीम द्वारा विभिन्न क्षेत्रों के 2133 घरों में द्वारा किया गया है। इस दौरान मच्छर जनित स्थितियां पाए जाने पर 13 घरों को नोटिस जारी की गई है। बता दें कि इस बार लखनऊ नगर निगम की ओर से फागिंग के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है। 

डेंगू के लक्षण और बचावः डेंगू के लक्षणों में तेज बुखार के साथ खांसी, सिरदर्द, शरीर में दर्द होना, चकत्ते पड़ना, सुबह के समय शरीर में जकड़न, घुटनों व हाथ के जोड़ में दर्द, सर्दी होना शामिल होता हैं। सिविल अस्पताल के फिजिशियन डा. आनंद बताते हैं कि कई बार लक्षणों के नजरअंदाज करने से प्लेटलेट्स का स्तर गिरने लगता है। इसलिए इन लक्षणों के दिखने पर जल्द से जल्द चिकित्सकीय परामर्श पर उपचार शुरू कर देना चाहिए। इन बातों के साथ बरतें सावधानी- आम संक्रमण में खांसी, नजला, गले में खराश, आदि होती है। डेंगू में बदन दर्द, तेज बुखार, आंखों के नीचे दर्द, सिर दर्द, जोड़ों में दर्द के साथ शरीर में लालिमा या चकत्ते पड़ सकते हैं।-

Related Articles

Back to top button