संकट ते हनुमान छुड़ावे, मन क्रम बचन ध्यान जो लावै! जेठ के आखिरी बडे मंगल पर भक्ति और भंडारे का दिखा दिव्य संगम

 जेठ मंगल (बडे मंगल) का आखिरी दिवस मंगलवार बडे ही हर्षोल्लास के साथ पूरी राजधानी के अलावा आसपास के क्षेत्रों और इससे जुडे ग्रामीण इलाकों में भी मनाया गया। बता दें कि अबकी बार जेठ मंगल में कुल पांच मंगलवार पडे जोकि कल अंतिम मंगलवार रहा। ऐसे में और अधिक धूमधाम और भक्तिमय माहौल में जेठ मंगल का पर्व मना।

लखनऊ(आरएनएस)

हजरतगंज दक्षिण मुखी हनुमान मंदिर, हनुमान सेतु, बडेÞ हनुमान जी अलीगंज, हनुमान मंदिर अलीगंज, पंचमुखी हनुमान मंदिर विकासनगर, आम्रपाली हनुमान मंदिर सहित इंदिरानगर, गोमतीनगर, निशातगंज, हुसड़िया चौराहा, बंगला बाजार, आशियाना, आलमबाग, कैसरबाग, और नाका हिंडोला, राजाजीपुरम आदि क्षेत्रों में जहां-जहां भी हनुमान जी का मंदिर रहा वहां पर सुबह से ही लोगों का पूजन-अर्चन के लिये आवागमन दिखा। वहीं भंडारे की धूम देखें तो तकरोही मार्केट इंदिरानगर में विनोद कुमार टिक्कू समोसा प्रतिष्ठान पर सुबह से लेकर शाम तक कढ़ी चावल और पूड़ी सब्जी का भंडारा निरंतर चला। परिवहन आयुक्त कार्यालय पर भी परिवहन कर्मियों और चालकों ने बडे ही हर्षोल्लास के साथ भंडारा किया। सचिवालय बिल्डिंग के आसपास से लेकर अशोक मार्ग, पत्रकारपुरम चौराहा, डालीगंज, पॉलीेटेक्निक चौराहा, सप्रू मार्ग, चौक, आदि प्रमुख मार्गों पर भी जेठ मंगल का भंडारा दिखा। कहीं पूड़ी सब्जी, कढ़ी और छोला चावल, कहीं शरबत, कहीं लीची तो कहीं लस्सी और आम का भी वितरण किया गया। जबकि सुबह से ही धीमे स्वर में कई मंंदिरा प्रांगणों में भी हनुमान चालीसा, सुंदरकांड पाठ और रामसीता भजन का वातावरण बना रहा। भक्ति और भंडारे का ऐसा दिव्य दृश्य दिखा कि सरकारी कार्यालयों से लेकर निदेशालयों, निजी संस्थानों और यहां तक कि कुछेक पुलिस थानों में बडेÞ मंगल का पर्व मनाया गया।

Rashtriya News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

17 − 6 =

Back to top button