इटौंजा माल रोड पर जाम के झाम से लोग परेशान राम मोहन गुप्ता

इटौंजा माल रोड पर सुबह आम की मंडी  लगाकर आम का कारोबार करने वाले व्यापारियों ने आम आदमियों का चलना दूभर कर दिया है। मुख्य सड़क पर आम की मंडी लगाने से रोजाना सुबह कई घंटे लोग जाम से जूझते रहते हैं। वहीं, अतिक्रमण हटाने के नाम पर नगर पंचायत और तहसील प्रशासन सिर्फ कागजी खानापूरी कर कोरम पूरा करता है। हालात यह हैं कि इटौंजा कस्बे में सुबह से लेकर देर शाम तक बड़े शोरूम वाले हों या फिर सड़क के किनारे कार बाजार से लेकर गाड़ियों की मरम्मत करने वाले, सबके वाहन सड़कों की फुटपाथ पर जमा रहने के कारण जाम लगा रहता है। 

लखनऊ (आरएनएस )

 बता दें कि कस्बे के भीतर की मुख्य सड़कों पर जाम लगने का यह नजारा प्रतिदिन देखा जा सकता है। एसडीएम, सीओ तथा एसओ भी आते-जाते इस समस्या से रूबरू होते हैं, पर कोई ठोस कदम नहीं उठाते हैं। कुछ दिन पहले जोरशोर से एसडीएम की अगुवाई में नगर पंचायत के कर्मचारियों ने अतिक्रमण हटाने का अभियान चलाया था, पर उनका पूरा फोकस पान, चाय की दुकान से लेकर ककड़ी, खीरा व लइया बेचने वालों तक सीमित रहा। इटौंजा लखनऊ में इटौंजा माल रोड पर आम की मंडी लगने की वजह से वाहनों जमान लगा रहता है जिससे अन्य वाहनों को चलना दुश्वार हो जाता है उसके अलावा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। माल रोड पर ही अगर सुबह से लेकर शाम तक सड़क के किनारे सुबह आम की मंडी व अन्य दुकानें लगने की वजह से वाहनों का जमघट लगा रहता है। यहां तक की अन्य वाहनों का चलना  मुहाल हो जाता है। मंडी व अन्य दुकानें लगने की वजह से जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। जिससे सड़क पर चलने वाले अन्य वाहनों को दो-तीन घंटे सड़क पार करने के लिए इंतजार करना पड़ता है। इससे नागरिकों में भारी आक्रोश है। आम बेचने वाले तथा आम उत्पादक सड़क तक आम लगा देते हैं। जिससे नागरिकों का पैदल चलना भी टेढ़ी खीर है। आम उत्पादक अपना बेचने के लिए सुबह से लेकर 12:00 बजे तक आम लगाए रहते हैं। इसके अलावा आम खरीदने वालों का तांता लगा रहता है जब आम खरीदने वाले आम खरीद लेते हैं सब 3:00 बजे के बाद सड़क खाली होती है।

Rashtriya News 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

three × one =

Back to top button