रैपिड में राफ्ट पलटने से गई थी पर्यटक की मौत , जानिए पूरा मामला

Rafting in Rishikesh राफ्टिंग के दौरान बीते मंगलवार को कोलकाता बंगाल के बुजुर्ग पर्यटक की मौत पहला मामला नहीं है। राफ्टिंग रूट पर खतरनाक रैपिड व अन्य स्थानों पर अब तक सीसीटीवी कैमरों को न लगाना लचर कार्यप्रणाली दर्शाता है।

 गंगा नदी में राफ्टिंग के दौरान बीते मंगलवार को कोलकाता बंगाल के बुजुर्ग पर्यटक की मौत पहला मामला नहीं है जो जिला प्रशासन और विभाग के लिए सबक बन सके। इससे पहले भी भी हुए हादसों से जिम्मेदारों ने सबक नहीं लिया।

मानकों के पालन के लिए प्रशासन उदासीन बना हुआ है। राफ्टिंग रूट पर खतरनाक रैपिड व अन्य स्थानों पर अब तक सीसीटीवी कैमरों को न लगाना विभाग और प्रशासन की लचर कार्यप्रणाली दर्शाता है।

राफ्ट पलटने से गई थी पर्यटक की मौत हो

बीते मंगलवार को कोलकाता निवासी पर्यटक शुभशीष बर्मन राय (62 वर्ष) की शिवपुरी स्थित रोलर कोस्टर रैपिड में राफ्ट पलटने से मौत हो गई थी। इसके बाद पर्यटन विभाग ने इस मामले की उच्चस्तरीय जांच की बात कही।

गंगा नदी राफ्टिंग एसोसिएशन के तहत प्रशासन यहां राफ्टिंग का संचालन कराता है। एसोसिएशन के अध्यक्ष जिलाधिकारी टिहरी और सचिव जिला पर्यटन अधिकारी बनाए गए हैं।तहसील प्रशासन, पुलिस प्रशासन और राफ्टिंग एसोसिएशन के प्रतिनिधि इसके सदस्य हैं। एसोसिएशन की मानीटरिंग धरातल पर कहीं नजर नहीं आती है। यही कारण है कि राफ्टिंग के दौरान लापरवाही की घटनाएं दुर्घटना के रूप में सामने आ रही हैं। पिछले कई वर्षों से शिवपुरी से लेकर राफ्टिंग एंडिंग प्वाइंट तक सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने के बाद जिला प्रशासन ने कही थी।

इसके लिए इस रास्ते पर आने वाले खतरनाक चार रैपिड, शिवपुरी, राफ्टिंग एंडिंग प्वाइंट, गोवा बीच, नीम बीच आदि में हाई क्वालिटी नाइट विजन वाले कैमरे लगाए जाने के लिए विभाग की ओर से मौके का मुआयना भी किया जा चुका है।

मगर अब तक यह काम धरातल पर नजर नहीं आ रहा है। अगर कैमरे लग जाते तो रैपिड पर होने वाली दुर्घटना का वास्तविक कारण सामने आ जाता। साथ ही यहां के बीच आदि में होने वाली अवैध गतिविधियों सहित सूर्यास्त के बाद होने वाली राफ्टिंग पर भी रोक लगाई जा सकती थी।

मगर अब तक यह काम धरातल पर नजर नहीं आ रहा है। अगर कैमरे लग जाते तो रैपिड पर होने वाली दुर्घटना का वास्तविक कारण सामने आ जाता। साथ ही यहां के बीच आदि में होने वाली अवैध गतिविधियों सहित सूर्यास्त के बाद होने वाली राफ्टिंग पर भी रोक लगाई जा सकती थी।

राफ्टिंग के दौरान हुए प्रमुख हादसे

  • 01 जनवरी 2019- ब्रह्मपुरी के समीप सर्फिंग प्वाइंट पर दिल्ली के पर्यटक 29 वर्षीय ऐश्वर्य प्रताप की मौत
  • 21 सितंबर 2019- गोल्फकोर्स रेपिड पर राफ्ट पलटने से दिल्ली की युवती 25 वर्षीय दीपा विश्वकर्मा की मौत
  • 11 सितंबर 2022- शिवपुरी के निकट रोलर कोस्टर रेपिड पर राफ्ट पलटने से कोलकाता निवासी 62 वर्षीय शुभशीष बनर्जी राय की मौत
  • नोट: वर्ष 2019-20 में कोरोना महामारी के चलते राफ्टिंग सत्र बंद रहा।

16 किलोमीटर के सफर में चार रैपिड खतरनाक

शिवपुरी से मुनिकीरेती तक राफ्टिंग का सफर करीब 16 किलोमीटर लंबा है। इस बीच 13 रैपिड आते हैं। इनमें चार रैपिड लेवल थ्री यानी खतरनाक माने जाते हैं। जिनमें द वाल, थ्री ब्लाइंड माईस, रोलर कोस्टर और गोल्फ कोर्स शामिल है।जिनके लिए प्रशिक्षित गाइड और राफ्ट के साथ सुरक्षा उपकरण और सपोर्टिंग कयाक गाइड भी जरूरी होते हैं। कम उम्र और अधिक उम्र के व्यक्तियों के लिए यहां चारों रैपिड खतरनाक माने गए हैं। इसके बावजूद इस वर्ग के पर्यटकों को राफ्टिंग कराया जाना मानकों का उल्लंघन है।

Related Articles

Back to top button