दिल्ली में सार्वजनिक स्थानों पर मिल सकती है छठ पूजा को मंजूरी, सीएम केजरीवाल ने LG को लिखा चिठ्ठी

नई दिल्ली, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राजधानी में सार्वजनिक जगहों पर छठ पूजा की मंजूरी के लिए उपराज्यपाल (एलजी) अनिल बैजल को पत्र लिखा है। एलजी को लिखे पत्र में सीएम केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में पिछले तीन महीनों से कोरोना संक्रमण नियंत्रण में है। इसलिए कोरोना प्रोटोकाल का पूरा ध्यान रखने हुए छठ पूजा मनाने की अनुमति दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान समेत अन्य राज्यों ने भी नागरिकों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को देखते हुए उचित प्रतिबंधों के साथ छठ पूजा मनाने की अनुमति दी है।

अरविंद केजरीवाल ने एलजी अनिल बैजल से अपील किया है कि जल्द से जल्द डीडीएमए की बैठक बुलाकर छठ पूजा के लिए मंजूरी दिया जाए।

jagran

मुख्यमंत्री ने पत्र के माध्यम से एलजी अनिल बैजल से कहा है कि दिल्ली के लोग बड़ी आस्था के छठ पूजा का पर्व हर साल मनाते हैं। यह त्योहार हमारी वैदिक आर्य संस्कृति का अहम हिस्सा है। छठ पूजा पर सूर्य देव और छठी माइया की पूजा करने वाले व्यक्ति को स्वास्थ्य समृद्धि और सुखों का लाभ होता है। बता दें कि छठ पूजा आठ नवंबर से शुरू होगा। लेकिन दिल्ली में इसको लेकर राजनीति काफी गरम है।

वहीं, दिल्ली भाजपा के पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दिल्ली सरकार द्वारा छठ पूजा कराने के निर्णय को आस्था की जीत बताया है। उन्होंने कहा कि हम सब कोविड के नियमों अनुसार अनुशासित तरीके से छठ घाट पर पूजा करेंगे।

jagran

छठ पूजा के आयोजन के समर्थन में दिल्ली सरकार

छठ के आयोजन को लेकर हो रही राजनीति के बीच दिल्ली सरकार भी सार्वजनिक छठ पूजा आयोजन के समर्थन में आ गई है। मंगलवार को उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इस बारे में अनुमति देने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया को पत्र लिखा था। पत्र में सिसोदिया ने मांडविया से सार्वजनिक जगहों पर छठ पूजा की अनुमति देने और आयोजन को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करने के लिए आग्रह किया है।

बता दें कि कोरोना संक्रमण का हवाला देकर दिल्ली में सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा के आयोजन पर रोक लगा दी गई है। भाजपा और छठ पूजा आयोजन समितियां इस फैसले का विरोध कर रही हैं। आम आदमी पार्टी भी छठ पूजा के आयोजन के समर्थन में है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + four =

Back to top button