चीन को घेरने की तैयारी, एलएसी के समीप भारत-अमेरिका दिखाएंगे ताकत

भारत और चीन सीमा पर बीते कई सालों से तनाव है। लाइन आफ कंट्रोल पर दोनों ओर से सैन्य गतिविधियां जारी हैं। इस बीच एक खबर ने चीन की चिंताओं को बढ़ा दिया है। उत्तराखंड के औली में अक्टूबर माह में भारत और अमेरिका सैन्याभ्यास करने की तैयारी कर रहे हैं। यह मिलिट्री एक्सरसाइल का 18वां संस्करण है। यह युद्धाभ्यास हर साल दोनों देशों में अगल-अगल जगह पर लगातार जारी है। बीते साल युद्धाभ्यास अमेरिका के अलास्का में किया गया था। इसीलिए इस साल भारत में होने जा रहा है।

मीडिया के मुताबिक, रक्षा विभाग के एक सूत्र ने बताया कि दोनों सेनाओं के बीच यह युद्धाभ्यास 14 से 31 अक्टूबर तक होने वाला है। सूत्रों ने बताया कि युद्धाभ्यास का उद्देश्य भारत और अमेरिका की सेनाओं के बीच समझ, सहयोग और अंतर-संचालन को बढ़ाना है। भारत-अमेरिका रक्षा संबंध बीते कुछ सालों से मजबूत हो रहे हैं। जून 2016 में, अमेरिका ने भारत को प्रमुख रक्षा भागीदार नामित किया।
दोनों देशों ने पिछले कुछ सालों में महत्वपूर्ण रक्षा और सुरक्षा समझौते भी किए हैं, जिसमें 2016 में लॉजिस्टिक्स एक्सचेंज मेमोरेंडम ऑफ एग्रीमेंट भी शामिल है, जो उनकी सेनाओं को आपूर्ति की हथियारों की मरम्मत और पुन:पूर्ति के लिए एक-दूसरे के ठिकानों का उपयोग करने की अनुमति देता है और साथ ही साथ गहन सुरक्षा प्रदान करता है। दोनों सेनाओं ने 2018 में (कम्युनिकेशंस कंपेटिबिलिटी एंड सिक्योरिटी एग्रीमेंट) पर भी हस्ताक्षर किए, जो दोनों सेनाओं के बीच अंतर-संचालन प्रदान करता है और अमेरिका से भारत को उच्च तकनीक की बिक्री का प्रावधान करता है।
उत्तराखंड के औली में हो रहा इस बार का युद्धाभ्यास इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि उत्तराखंड के बाराहोती क्षेत्र में बीते साल सितंबर में चीन के सैनिकों ने नापाक हरकत की थी। चीनी सैनिक भारतीय सीमा में करीब 5 किमी तक अंदर घुस आए थे। हालांकि कुछ ही घंटों में ये सैनिक वापस लौट गए थे। बताया जाता है कि बाराहोती में एक ऐसा चारागाह है जिसे लेकर दोनों देशों के बीच विवाद है। ये चारागाह 60 स्च्ॉयर किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है।

राष्ट्रीय न्यूज़

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

7 + 5 =

Back to top button