नैनीताल  में सभी ट्रांसफार्मर पर एसीबी व एमसीबी लगाने की तैयारी..

जिले में 4979 किलो मीटर में एलटी लाइन है। हालांकि नए लाइन बिछाई पर अब एवी केबल डाली जा रही है। मौजूद समय में 6587 ट्रांसफार्मर हैं। अत्यधिक बारिश या अंधड़ आने पर एक घर या कालोनी में फाल्ट होता था तो सब स्टेशन से शटडाउन लिया जाता है।

प्रधानमंत्री की रिमैप्ड स्कीम के तहत नैनीताल जिले में बिजली कटौती का दायरा कम करने की तैयारी है। इस क्रम में जिले के 6587 ट्रांसफार्मरों में एसीबी व एमसीबी लगाई जाएगी। लाइन में फाल्ट होने पर पहले जो शटडाउन सब स्टेशन से होता था। वह सीधे ट्रांसफार्मरों से कर दिया जाएगा।

जिले में 4979 किलो मीटर में एलटी लाइन है। हालांकि नए लाइन बिछाई पर अब एवी केबल डाली जा रही है। ऊर्जा निगम के अनुसार मौजूद समय में 6587 ट्रांसफार्मर हैं। अत्यधिक बारिश या अंधड़ आने पर एक घर या कालोनी में फाल्ट होता था तो सब स्टेशन से शटडाउन लिया जाता है। ऐसे में पूरे क्षेत्र की बिजली कट हो जाती थी।

फाल्ट समय पर नहीं मिलने पर उपभोक्ताओं को परेशान होना पड़ता है। इस समस्या के समाधान के लिए ऊर्जा निगम ने खाका तैयार कर दिया है। प्रधानमंत्री के डिमैप्ड स्कीम के तहत सभी ट्रांसफार्मर पर एसीबी व एमसीबी लगाने की तैयारी है। इसके तहत बिजली का फाल्ट होते ही शटडाउन ट्रांसफार्मर से लिया जाएगा।

रामनगर के हल्दुआ में बनेगा बिजली घर

रामनगर के हल्दुआ में बिजली घर बनाया जाएगा। ऊर्जा निगम के अधीक्षण अभियंता नवीन मिश्रा ने बताया कि चिल्किया से रामनगर क्षेत्र की बिजली आपूर्ति होती है। यहां लोड बढऩे व अन्य दिक्कतों को देखते हुए हल्दुआ में नया बिजली घर बनाया जा रहा है। बजट स्वीकृत्त हो जाने के बाद जमीन की तलाश की जा रही है।

209 करोड़ से अंडरग्राउंड होगी बिजली लाइन

हल्द्वानी शहर में फैला बिजली के तारों का जाल सालों से खतरा बना हुआ है। तारों के टूटने से पूर्व में जनहानी भी हो चुकी है। इन्हें अंडरग्राउंड करने के लिए ऊर्जा निगम ने करसत शुरू कर दी है। ऊर्जा निगम के अधिकारियों के अनुसार लाइन अंडरग्राउंड होने पर 209 करोड़ रुपये का खर्च आएगा।

सभी ट्रांसफार्मर पर एसीबी व एमसीबी लगाने की तैयारी

अधीक्षण अभियंता नवीन मिश्रा ने बताया कि हमारा प्रयास चौबीस घंटे उपभोक्ताओं को बिजली देना है। आकस्मिक फाल्ट से अक्सर दिक्कत रहती है। जिले के सभी ट्रांसफार्मर पर एसीबी व एमसीबी लगाने की तैयारी की जा रही है। इसके बाद बिजली कटौती से राहत मिलेगी।

Related Articles

Back to top button