भारत-अमेरिका द्विपक्षीय बैठक में प्रधानमंत्री का उद्घाटन भाषण

राष्ट्रपति जी, सबसे पहले तो मैं मैत्रीपूर्ण और गर्मजोशी भरा हम सबका भारतीय delegation का स्वागत करने के लिए मैं आपका ह्रदय से बहुत बहुत आभार व्यक्त करता हूँ। 2016 में, और 2014 में भी मुझे आपसे विस्तार से बात करने के मौका मिला था। और उस समय आपने भारत-अमेरिका के संबंधों का आपका जो विज़न है, जिसको आपने शब्दबद्ध किया था वो वाकई बहुत ही प्रेरक था और आज आप राष्ट्रपति के रूप में उस विज़न को आगे बढ़ाने के लिए जो पुरुषार्थ कर रहे हैं, प्रयास कर रहे हैं, initiative ले रहे हैं, इसका मैं स्वागत करता हूँ।

आपने भारत में बाइडेन surname के लोगों के सम्बन्ध में आपने detail में जिक्र किया।

Excellency!

आज की हमारी जो bilateral summit, लेकिन मैं देख रहा हूँ कि ये दशक 21वीं शताब्दी के तीसरे दशक का ये पहला वर्ष, मैं पुरे पूरे दशक की तरफ देख रहा हूँ कि आपके नेतृत्व में जो बीज हम बोयेंगे। इस पूरा दशक हमारी दृष्टि से बहुत ही भारत और अमेरिका के सम्बन्ध में विश्व के लोकतान्त्रिक देशों के लिए एक बहुत ही transformative ये काल-खंड रहेगा ऐसा मेरा विश्वास है। 

जब भारत और अमेरिका के संबंधों में transformative देख रहा हूँ, तब मैं देख रहा हूँ की tradition , लोकतान्त्रिक परम्पराओं और मूल्यों को लेकर के जो हम जी रहे है और जिसके प्रति हम समर्पित हैं, हम committed हैं। वो tradition का अपना एक महत्व है, और अधिक बढेगा।

उसी प्रकार से आपने उल्लेख किया कि 4 million से अधिक लोग भारत के यहां अमेरिका की विकास यात्रा में सहभागी हैं। ये दशक में talent का अपना एक महत्व है। People to people ये talent इस दशक में बहुत ही प्रभावी भूमिका अदा करेगा और भारतीय talent अमेरिका की विकास यात्रा में पूरी तरह सहभागी होती चली जाए उसमें आपका योगदान बहुत महत्वपूर्ण है।
उसी प्रकार से दुनिया में सबसे ज्यादा driving force बन रही है technology। इस दशक में भारत और अमेरिका के रिश्तों में technology और वो भी पूरी मानवता के लिए उपयोगी हो

उसी प्रकार से भारत और अमेरिका के बीच trade का अपना महत्व है। बहुत सी चीजें हैं जो अमेरिका के पास हैं वो भारत को जरुरत हैं। बहुत सी चीजें भारत के पास हैं जो अमेरिका के काम आ सकता हैं। तो trade भी इस दशक का एक बहुत बड़ा क्षेत्र रहेगा।

Mr.President आपने अभी दो अक्टूबर महात्मा गाँधी की जन्म जयंती का उल्लेख किया। महात्मा गाँधी trusteeship की बात करते थे। ये दशक उस trusteeship के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। महात्मा गाँधी हमेशा इस बात की वकालत करते थे की planet के हम trustee हैं और हमने हमारी आने वाली पीढीयों को एक trustee के रूप में ये planet को हमने सुपुर्द करना होगा। और ये trusteeship की भावना ही भारत और अमेरिका के बीच के संबंधों में एक बहुत अहमियत रखेगा। और महात्मा गाँधी के आदर्शों की पूर्ति के लिए ये trusteeship का सिद्धांत जो planet के लिए, हर नागरिक की जिम्मेवारी विश्व के लिए बनती जा रही है। 

और राष्ट्रपति जी जैसे कुछ विषयों का आपने उल्लेख किया। ये सारे विषय बहुत ही महत्वपूर्ण हैं। भारत के लिए भी महत्वपूर्ण हैं और आपने पदभार सँभालने के बाद चाहे COVID हो , climate हो या Quad हो, हर एक में एक बहुत ही unique initiative लिया है और मैं समझता हूँ ये जो आपका initiative है , आने वाले दिनों में बहुत बड़ा प्रभाव पैदा करेगा। और मुझे विश्वास है की आज की हमारी बातचीत में भी इन सरे विषयों को हम विस्तार से विचार विमर्श करके हम कैसे साथ चल सकते हैं। हम एक दूसरे के लिए भी और दोनों मिल कर दुनिया के लिए भी क्या कुछ positive कर सकते हैं। मुझे विश्वास हैं कि आपके नेतृत्व में आज की चर्चा बहुत सार्थक रहेगी। 

राष्ट्रपति जी मैं फिर से एक बार आपका बहुत बहुत धन्यवाद करता हूँ, इस गर्मजोशी भरे स्वागत के लिए।

देश और विदेश की ताज़ातरीन खबरों को देखने के लिए हमारे चैनल को like और Subscribe कीजिए
Youtube- https://www.youtube.com/NEXTINDIATIME
Facebook: https://www.facebook.com/Nextindiatimes
Twitter- https://twitter.com/NEXTINDIATIMES
Instagram- https://instagram.com/nextindiatimes
हमारी वेबसाइट है- https://nextindiatimes.com
Google play store पर हमारा न्यूज एप्लीकेशन भी मौजूद है

खबरों के लिए हमसे संपर्क करें- +91-9044323219, +91-522-3568889

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- contact@nextindiatimes.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × one =

Back to top button