लखनऊ में पलक झपकते ही गिरी 5 मंजिला इमारत, तस्वीरों में देखें दर्दनाक मंजर

लखनऊ। लखनऊ में मंगलवार की शाम अमंगल साबित हो गयी। राजधानी के वजीर हसन रोड स्थित पांच मंजिला अपार्टमेंट अलाया ताश के पत्तों की तरह ढह गया। मलबे में तीस से अधिक लोग दब गए। सूचना पर पुलिस, दमकल, एसडीआरएफ और सेना के जवानों ने रेस्क्यू ऑपरेशन कर अब तक 14 लोगों को बाहर निकाल अस्पताल में भर्ती कराया है। बाकी फंसे लोगों को निकालने के लिए राहत-बचाव कार्य जारी है।

पांच मंजिला अलाया अपार्टमेंट में कुल 12 फ्लैट हैं। सबसे ऊपर एक पेंटहाउस है। शाम करीब साढ़े छह बजे अचानक से ये इमारत ढह गई। इलाकाई लोगों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना पर राहत बचाव कार्य के लिए पुलिस के अलावा एसडीआरएफ, सेना व दमकल के जवान पहुंचे।

देर रात एनडीआरएफ की टीम भी पहुंच गई। तीन चार जेसीबी लगाकर मलबा हटाकर व हैंड ड्रिलिंग मशीन की मदद से मलबे को काटकर फंसे लोगों को बाहर निकाला जाने लगा। देर रात तक टीमें एक एक करके लोगों को बाहर निकालने में लगी रहीं। मलबा इतना अधिक था कि उसको हटाने में लगातार टीम काम कर रही है और आज सुबह भी ये कार्रवाई जारी रही। डीजीपी डीएस चौहान ने बताया कि जानकारी के मुताबिक हादसे के वक्त आठ से दस परिवार मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने लिया संज्ञान :

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे का संज्ञान लेते हुए अधिकारियों को घायलों के समुचित इलाज के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को मौके पर जाकर राहत कार्य कराने के आदेश दिए साथ ही कई अस्पतालों को भी अलर्ट रहने को कहा था। जानकारी के मुताबिक़ इस अपार्टमेंट को शाहिद मंजूर के भतीजे मोहम्मद तारिक और बेटे नवाजिश शाहिद ने खरीदा था। पुलिस ने शाहिद मंजूर के बेटे नवाजिश को हिरासत में लेकर एक घंटा पूछताछ की और रात करीब डेढ़ बजे अपने साथ लखनऊ ले आई। अलाया अपार्टमेंट को यजदान बिल्डर्स ने बनवाया था।

यजदान बिल्डर्स की बिल्डिंग्स की होगी जांच :

लखनऊ की मंडलायुक्त डॉक्टर रोशन जैकब ने लखनऊ विकास प्राधिकरण के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है कि हजरतगंज के वजीरगंज हसन रोड पर बने अलाया अपार्टमेंट के गिरने पर बिल्डिंग के मालिकों मोहम्मद तारीफ और नवाजिश शाहिद के साथ-साथ इस अपार्टमेंट को बनाने वाले यजदान बिल्डर्स पर तत्काल केस दर्ज किया गया। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि लखनऊ में यजदान बिल्डर्स के द्वारा बनाई गई अन्य बिल्डिंगों को चिन्हित कर जांच कराई जाए और अगर कोई इमारत अवैध रूप से बनाई गई है तो उसके ध्वस्तीकरण की प्रक्रिया शुरू की जाए।

Tag: #nextindiatimes #lucknow #breaking #yajdan #builders #building #collapsed #aprtment #officers #cmyogi #sp #public #police #ndrf #roshanjacob #investigation #case #alayaaprtment

Related Articles

Back to top button