कानपुर में निजीकरण के विरोध में बड़ौदा यूपी ग्रामीण बैंक के अधिकारी एवं कर्मचारी हड़ताल पर बैठे

आल इंडिया रीजनल रूरल बैंक एम्प्लाइज एसोसिएशन के आवाहन पर शुक्रवार को बड़ौदा यूपी बैंक के कानपुर क्षेत्र के 200 से ज्यादा अधिकारी एवं कर्मचारी हड़ताल पर बैठे गए। इस दौरान कर्मचारियों ने क्षेत्रीय कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन भी किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष सगुण शुक्ला ने कहा कि आज देश भर की 43 ग्रामीण बैंकों के 70000 से ज्यादा अधिकारी एवं कर्मचारी हड़ताल पर है। 

कानपुर (आरएनएस)

उन्होंने बताया कि हड़ताल भारत सरकार द्वारा ग्रामीण बैंकों को भी निजीकरण के रास्ते में ले जाने के लिए प्रारम्भ की जा रही कार्यवाही के विरोध में है।
42 शाखायें बंद होने से ग्राहक हुए परेशान 

भारत सरकार ने ग्रामीण बैंकों को अपनी वैधानिक आवश्कता हेतु आवश्यक कैपिटल जुटाने के लिए शेयर बाजार के माध्यम से आईपीओ लाकर पूंजी जुटाने के निर्देश जारी कर दिए गए है। जबकि एसोसिएशन सभी ग्रामीण बैंकों को एक करते हुए भारतीय राष्ट्रीय ग्रामीण बैंक बनाकर ग्रामीण भारत से सीधा जुड़ी 100 करोड़ आबादी के लिए एक बैंक स्थापित करने की मांग एक लंबे समय से की जा रही है। उन्होंने बताया कि मांग को लेकर 10 अगस्त को दिल्ली जंतर मंतर में धरना भी दिया गया और बैंकिंग सचिव को ज्ञापन भी दिया गया था। इसी मांग को लेकर अभी तक देश भर के 100 से ज्यादा सांसदों को ज्ञापन भी दिया जा चुका है जो आगे भी जारी रहेगा। 500 से ज्यादा माननीय सांसदों को ज्ञापन देने का अभियान है वहीं, भीतरगांव, बिरहर, बरईगढ़, भौंती, बौसर, तिवारीपुर जाजमऊ, ख्योरा, रमईपुर, बिधनू, कठारा, कठेरुआ मालरोड, साढ़ व बिठूरआदि शाखाओं में काम नहीं हो रहा है। बड़ौदा यूपी बैंक के क्षेत्रीय कार्यालयक में धरने के दौरान केंद्रीय समिति के सदस्य संजय गुप्ता, मुख्य इकाई के उपाध्यक्ष हीरेन्द्र सिंह चौहान,सौरभ श्रीवास्तव,अमित मिश्रा आदि लोग मौजूद रहे है।

Tags : #UPNews #UttarPradesh #Kanpur #BankStrike #BarodaUPGraminBank #OppositionToPrivatization #Hindinews

राष्ट्रीय न्यूज़

Related Articles

Back to top button