निर्मला सीतारमण ने आज अमेरीका में राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन मुख्यालय का दौरा किया..

सीतारमण अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की वार्षिक बैठकों में हिस्सा लेने के लिए अमेरिका की राजधानी गई थीं। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन मुख्यालय का दौरा किया। यहां उन्हें खगोल विज्ञान रोबोटिक्स के लिए एआई और सार्वजनिक संदेश जैसे प्रमुख मुद्दों पर प्रस्तुतियां दी गईं।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज अमेरीका में राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन मुख्यालय (NSF) का दौरा किया। यहां उन्हें स्वास्थ्य संकट के दौरान खगोल विज्ञान, रोबोटिक्स के लिए एआई और सार्वजनिक संदेश जैसे प्रमुख मुद्दों पर प्रस्तुतियां दी गईं। सीतारमण अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की वार्षिक बैठकों में हिस्सा लेने के लिए अमेरिका की राजधानी गई थीं। उन्होंने अपनी छह दिवसीय यात्रा की शुरुआत प्रतिष्ठित ब्रुकिंग्स इंस्टीट्यूट में थिंक-टैंक समुदाय के साथ बातचीत से की थी।

प्रोफेसरों ने दी प्रस्तुतियां

रविवार को एनएसएफ की अपनी यात्रा के दौरान सीतारमण को खगोल विज्ञान, कोरोना जैसे स्वास्थ्य संकटों के दौरान सार्वजनिक संदेश और रोबोटिक्स के लिए AI, कृषि और पर्यावरणीय स्थिरता के लिए प्रख्यात और प्रतिष्ठित प्रोफेसरों द्वारा अनुप्रयोगों के साथ आभासी प्रस्तुतियां दी गईं। इस दौरान डा कैथरीन बौमन, ब्लैक होल पर सफलता की खोज के लिए प्रमुख शोधकर्ता, नोबेल पुरस्कार विजेता और अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी और अर्थ सेंस के सह-संस्थापक और मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी डा गिरीश चौधरी ने उन्हें प्रस्तुतियां दीं।

महामारी में भारत-अमेरिका सहयोग का हुआ जिक्र

एनएसएफ के निदेशक डा सेथुरमन पंचनाथन ने सीतारमण को फाउंडेशन के काम के बारे में जानकारी दी और उन्हें एनएसएफ गैलरी का दौरा कराया। पंचनाथन ने बताया कि एनएसएफ को उन साझेदारियों पर गर्व है जो भारत और अमेरिका ने समाज को आगे बढ़ाने के लिए वर्षों से बढ़ावा दिया है। वैश्विक सहयोग ने ब्लैक होल की पहली छवियों को कैप्चर करने से लेकर महामारी से जूझने तक अद्भुत चीजें संचालित की हैं। 

Related Articles

Back to top button