नवरात्रि दिवस 5, 2021: माँ स्कंदमाता की पूजा का महत्व

स वर्ष, भक्त सुबह 11:45 बजे से दोपहर 12:31 बजे के बीच मां स्कंदमाता पूजा कर सकते हैं

मां स्कंदमाता की पूजा नवरात्रि के पांचवे दिन की जाती है जो कोई और नहीं बल्कि देवी पार्वती हैं। कार्तिकेय को जन्म देने के बाद, उन्हें स्कंद कहा जाने लगा जो बाद में स्कंदमाता में बदल गई। नौ दिवसीय त्योहार के पांचवें दिन पूजा की जाती है, देवी अपने भक्तों को अतुलनीय ज्ञान प्रदान करने के लिए जानी जाती है। वह अग्नि की देवी हैं और उनके हाथों में कमल और गोद में बच्चे कार्तिकेय के साथ एक शेर पर चित्रित किया गया है। उसके चार हाथ हैं, जिनमें से दो कमल धारण करते हैं, एक ‘स्कंद’ धारण करता है और अंतिम अभय मुद्रा में है। ऐसा कहा जाता है कि मां स्कंदमाता के कारण, संस्कृत के विद्वान कालिदास दो उत्कृष्ट कृतियों – ‘रघुवंश महा काव्य’ और ‘मेघदूत’ की रचना करने में सक्षम थे।

स्कंदमाता की आराधना करने वालो को भगवती जीवन में सही दिशा में ज्ञान का उपयोग कर उचित कर्मो द्वारा सफल सिद्धि प्रधान होती है।

यह वात्सल्य विग्रह है, इसलिए कोई शास्त्र धारण नहीं करती इनकी कान्ति का आलोकिक प्रभामंडल उपासक को भी मिलता है। इनकी उपासबा से साधक को मृत्यु लोक में ही परम शांति और सुख मिलता है। उसकी सभी इक्छाए पूरी होती है उसकी कोई लोकीक कामना शेष नहीं रहती।

क्या है समय पूजा का।

इस वर्ष, भक्त सुबह 11:45 बजे से दोपहर 12:31 बजे के बीच मां स्कंदमाता पूजा कर सकते हैं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 3 =

Back to top button