गर्लफ्रेंड की फोटो डिलीट न करने पर हत्या ,जानिए पूरा मामला …

 दिल्ली के करोलबाग में प्रेम त्रिकोण में एक युवक की बेरहमी से हत्या कर देने का मामला सामने आया है। यहां एक युवती का दो दोस्तों के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था। तीनों मूलरूप से राजस्थान के रहने वाले थे।

 दिल्ली के करोलबाग में प्रेम त्रिकोण में एक युवक  ने अपने ही दोस्त की बेरहमी से हत्या कर दी। दोनों युवक एक ही युवती से प्रेम करते थे। हैरानी की बात तो यह है कि युवती ने ही दोनों युवक की दोस्ती भी कराई थी। मध्य जिला पुलिस ने घटना के दस घंटे के अंदर दो आरोपितों को राजस्थान से गिरफ्तार किया है। 

दो युवकों से युवती का प्रेम प्रसंग

पुलिस के मुताबिक, मूलरूप से चुरू (राजस्थान) के रहने वाले मनीष उर्फ विष्णु दिल्ली के गांधी नगर स्थित राजगढ़ एक्सटेंशन में अपने परिवार के साथ रहता था। युवक का चुरू की रहने वाली एक युवती से प्रेम संबंध था। दूसरी तरफ युवती का चुरू के ही संजय बूचा के साथ भी प्रेम प्रसंग चल रहा था। जबकि, दोनों युवक दोस्त थे और गर्लफ्रेंड को लेकर अक्सर इनमें विवाद होता था।

युवती ने कराई युवकों की मुलाकात

पुलिस ने बताय कि संजय कोलकाता में एक शेयर-ब्रोकर के साथ कंप्यूटर असिस्टेंट का काम करता है। वह मनीष से अपनी प्रेमिका के माध्यम से मिला था। मनीष भी उस युवती से प्रेम करता था। संजय ने मनीष को युवती से संपर्क तोड़ देने को कहा था, पर मनीष तैयार नहीं हुआ। ऐसे में उसने उसकी हत्या करने का फैसला किया।

गर्लफ्रेंड की फोटो डिलीट न करने पर हत्या

संजय ने कई बार मनीष को अपनी गर्लफ्रेंड से दूर रहने के लिए कहा, लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं था। डीसीपी श्वेता चौहान ने बताया कि साजिश के तहत संजय ने दोस्त सीताराम सुथार के साथ मिलकर दीवाली की रात पार्टी करने के बहाने मनीष को अपने पास बुलाया और उसे बंधक बना लिया। शराब पिलाने के बाद संजय ने मनीष को मोबाइल से गर्लफ्रेंड की तस्वीरें डिलीट करने के लिए कहा।

शव को कार में लेकर घूमता रहा आरोपित

मनीष ने ऐसा करने से मना कर दिया, जिसपर संजय व उसके दोस्त ने उसकी कार में ही रस्सी से गला कसकर हत्या कर दी। उसके बाद दोनों आरोपित शव को कार में रखकर दो घंटे तक घूमते रहे। बाद में दिल्ली कैंट क्षेत्र में सेना मुख्यालय के सामने सीवर में शव को फेंक दिया और कार को सड़क किनारे छोड़कर दोनों बस से राजस्थान भाग गए थे।

संदिग्ध हालत में मिली कार

इधर, मनीष के घरवालों ने 22 अक्टूबर को करोलबाग थाने में शिकायत देकर बताया कि मनीष गफ्फार मार्केट स्थित मोबाइल एक्सेसरीज की दुकान से 21 अक्टूबर की शाम से लापता है। उन्होंने बताया कि दिल्ली कैंट के धौलाकुआं इलाके में 22 अक्टूबर की सुबह उनके बेटे की कार संदिग्ध हालत में मिली थी। कार की पिछली सीट पर खून के धब्बे थे। मनीष का मोबाइल भी बंद था।

फोन हिस्ट्री के जरिए आरोपित गिरफ्तार

पुलिस टीम ने मोबाइल एक्सेसरीज की दुकान के मालिक और कर्मचारियों से पूछताछ की, लेकिन कोई ठोस जानकारी नहीं मिली। इसके बाद ब्लाइंड मर्डर के तौर पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू की तो पता चला कि घटना के पहले मनीष की राजस्थान से पंजीकृत दो मोबाइल नंबरों पर बातचीत हुई है। पुलिस ने मोबाइल की सीडीआर रिपोर्ट के जरिये दोनों युवकों को राजस्थान से गिरफ्तार कर लिया।

Related Articles

Back to top button