श्री रामजन्मभूमि मंदिर को जोड़ने वाले सम्पर्क मार्ग का मण्डलायुक्त ने लिया जायजा

अयोध्या। मण्डलायुक्त गौरव दयाल व जिलाधिकारी नितीश कुमार ने श्रीराम जन्मभूमि मंदिर को जोड़ने वाले प्रमुख सम्पर्क मार्गो यथा-राम जन्मभूमि पथ (सुग्रीव किला से श्रीराम जन्मभूमि मंदिर तक) भक्ति पथ (श्रृंगार हाट से हनुमानगढ़ी होते हुये जन्मभूमि पथ तक) तथा रामपथ (सहादतगंज से नयाघाट तक) के चौड़ीकरण/सुदृढ़ीकरण सम्बंधी कार्यो की प्रगति तथा उसकी गुणवत्ता का जायजा लिया।

इस अवसर पर अवगत कराया गया कि जन्मभूमि पथ (लम्बाई 0.566 किमी0) का 55 प्रतिशत कार्य पूर्ण है। मिट्टी का कार्य पूर्ण है, मौके पर जल निगम द्वारा सीवर/वाटर सप्लाई पाइप लाइन का कार्य प्रगति पर पाया गया। आर0सी0सी0 नाली एवं यूटीलिटी डक्ट का कार्य गतिमान पाया गया। उसके बाद भक्ति पथ के निरीक्षण में भूमि/भवन का बैनामा किया जा चुका है एवं दुकानों का प्रतिकर दिया जा चुका है। कुल प्रभावित 350 दुकानों में से सभी को मुआवजा दिया जा चुका है। ध्वस्तीकरण का कार्य पूर्ण है, रेडीमिक्स कंक्रीट प्लांट व मशीनरी मोबलाइजेशन कराकर सीवर लाइन का कार्य प्रगति पर है। सीवर लाइन कार्य 482 मीटर के सापेक्ष 220 मीटर का कार्य पूर्ण है।

इस दौरान अधिकारी द्वारा मौके पर विभिन्न दुकानदारों/भवन स्वामियों से वार्ता कर उन्हें मार्ग की निर्धारित चौड़ाई की सीमा के बाहर ही अपने भवनों/दुकानों का निर्माण कराने हेतु प्रेरित किया गया। अधिकारी दल ने अयोध्या विकास प्राधिकरण के टाउन प्लानर व सम्बंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि यह सुनिश्चित किया जाय कि मार्गो की निर्धारित चौड़ाई के बाहर ही निर्माण हो। निर्धारित सीमा के भीतर किसी भी दशा में छज्जा व सीढ़ी का भी निर्माण न होने पाये।

अधिकारी दल ने कहा कि उक्त कार्य निर्धारित मानक के अनुरूप न पाये जाने की दशा में सम्बंधित जे0ई0/अधिकारी पर कार्यवाही की जायेगी। इस दौरान उन्होंने भक्ति पथ पर आने वाले श्रद्वालुओं को मार्ग के एक किनारे पर से आवागमन की सुचारू सुविधा उपलब्ध कराते हुये बाकी मार्ग पर पर्याप्त मानव संसाधन लगाकर 24 गुडे 7 तीन शिफ्टों में तीव्र गति से कार्य कराने हेतु अधिशाषी अभियन्ता निर्माण खण्ड-4 व सम्बंधित कार्यदायी संस्था को निर्देशित किया। इस अवसर पर अधिकारी द्वय द्वारा सीवर लाइन सहित समस्त कार्यो को गुणवत्ता पूर्ण ढंग से कराने तथा अधिशाषी अभियन्ता को नियमित गुणवत्ता चेक करने व निरीक्षण नोट उपलब्ध करने के निर्देश दिये।

इस दौरान अधिकारी दल द्वारा रामपथ (लम्बाई 12.94 किमी0) का भी जायजा लिया गया। अर्जित भूमि पर भवनों के ध्वस्तीकरण की कार्यवाही तीव्र गति से जारी है, इससे प्रभावित 872 परिसम्पत्तियों के सापेक्ष 799 परिसम्पत्तियों का बैनामा किया जा चुका है। पुनर्व्यवस्थापन एवं पुर्नवास हेतु 2241 प्रभावित दुकानदारों के सापेक्ष 2190 दुकानदारों को भुगतान किया चुका है। इस अवसर पर अधिकारी दल द्वारा शेष बैनामों को सम्बंधित भू-स्वामियों से समन्वय कर शीघ्र पूर्ण करने, अर्जित भवनों/दुकानों के ध्वस्तीकरण की कार्यवाही भी तेजी से कराने तथा मलवा भी तत्काल हटवाते रहने के निर्देश दिये।

Tags: rammandir #ayodhya #nitnews #link #roads #officers #inspection #ramtemple #hindu

Related Articles

Back to top button