ममता बनर्जी लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन कर रही है बंगाल में : रविशंकर प्रसाद

 पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा की पश्चिम बंगाल में बीते कुछ दिनों में पुलिस अत्याचार और नागरिक अधिकारों का हनन किया जा रहा है । पश्चिम बंगाल लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन हुआ है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि बंगाल बौद्ध परंपरा और चिकित्सा के लिए जाना जाता है लेकिन ममता  के नेतृत्व में पश्चिम बंगाल कानून विहीन और बैंक करप्ट राज्य बन गया है। ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल के बाहर के राज्यों में जाकर लोकतंत्र की बचाने की बात करती है जबकि बंगाल में लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन करने में पश्चिम बंगाल की तृणमूल कांग्रेस इस सरकार ने सारे हद पार कर दी हैं।

नई दिल्ली, – (आरएनएस)

 प्रसाद ने कहा कि पश्चिम बंगाल भ्रष्टाचार की प्रकाष्ठा पार कर रहा है तो ममता बनर्जी के पूर्व मंत्री के परिचितों के घर से 60-70 करोड़ रूपय नगद पकड़ा जाता है और वे गिरफ्तार हो रहे हैं। ईडी की कार्रवाई हो रही है। सबूत होने के कारण उन्हें कोर्ट से राहत भी नहीं मिल रहा है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ममता बनर्जी मॉं, माटी और मनुष और सुषासन की बात की थी। और उसका स्वरूप् यह है कि तो विरोध प्रदर्षन होगा। जब विरोध प्रदर्शन करेंगे तो पिटाई करेंगे। पुलिस से भारतीय जनता पार्टी की महिला कार्यकर्त्ता और नेत्रियों की पिटाई कराएंगे। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष, पार्टी के सांसद एवं विधायक सहित भाजपा पष्चिम बंगाल के प्रदेष अध्यक्ष सुवेन्दु अधिकारी, पूर्व अध्यक्ष राहुल सिन्हा, सांसद लॉकेट चटर्जी को प्रदर्शन करने नहीं देंगे और गिरफ्तार करेंगे। पुलिस अत्याचार और नागरिक अधिकारों का हनन कराने वाली पार्टी और नेताओं का न्याय जनता करती है। ममता बनर्जी पहले कांग्रेस में थी और कांग्रेस प्रमुख इंदिरा गांधी ने आपातकाल लगाया तो उनका क्या हाल हुआ था वह आप अच्छी तरह से जानती हैं। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ममता बनर्जी ने सीपीएम की सरकार में खुद पुलिस अत्याचार भोगा है और पुलिस अत्याचार के षिकार सात कार्यकर्त्ताओं की याद में कार्यक्रम करती हैं। लगता है ममता बनर्जी उन घटनाओं को भूल गयी है और सीपीएम सरकार की पुलिस की निर्मम अत्याचार को दोहरा रही हैं। वामपंथियों के अत्याचार से खुद ममता बनर्जी ने लड़ी है और आज भाजपा के नेताओं एवं कार्यकर्त्ताओं पर वही पुलिस अत्याचार दोहरा रही है। ऐसा क्यों? क्या तृणमूल कांग्रेस में उत्तराधिकार की लड़ाई शुरू हो गयी है। तृणमूल कांग्रेस के भीतर आंतरिक कलह को डायवर्ट करने के लिए भाजपा नेताओं एवं कार्यकर्त्ताओं पर अत्याचार कर रही है।  भारतीय जनता पार्टी ममता बनर्जी को स्पष्ट जानकारी देते हैं कि जितना भी भाजपा नेताओं एवं कार्यकर्त्ताओं पर जितना पुलिस अत्याचार कराएंगी भाजपा उतना ही आगे बढ़ेगा।  इंदिरा गांधी ने लोकनायक जयप्रकाष नारायण को रोकने की जितनी कोशिश की, किन्तु इंदिरा गांधी ने जयप्रकाष नारायण के कारवां को रोक नहीं पायी थी। ममता जी भाजपा के कारवां को रोकने की बहुत कोशिश की थी। पष्चिम बंगाल में लेफ्ट और कांग्रेस साफ हो गए, किन्तु पष्चिम बंगाल विधान सभा में भारतीय जनता पार्टी के 77 विधायक पहुंच गए। इसलिए भाजपा के कारवां के प्रवाह को रोकने की कोशिश नहीं करें। ममता बनर्जी जितना रोकने की कोशिश करेंगी, भाजपा की कारवां उतना ही आगे बढ़ेगा।भाजपा पष्चिम बंगाल प्रदेश अध्यक्ष सुवेन्दु अधिकारी, सांसद दिलीप घोष, सांसद लोकेट चटर्जी, सहित भाजपा के सभी सांसद, विधायकों एवं कार्यकर्त्ताओं को लोकतंत्रिक अधिकारों के लिए संघर्ष करने के लिए अभिनंदन करते हैं। भाजपा के विरोध प्रदर्शन के दौरान हावड़ा ब्रिज बंद हो गया, यह कोलकाता के इतिहास में बड़ी घटना है। भाजपा के नबन्ना अभियान में एक हजार से ज्यादा कार्यकर्त्ता घायल हैं, 400 से अधिक कार्यकर्त्ता का इलाज करके घर जाने दिया गया है। भारतीय जनता पार्टी के 30 कार्यकर्त्ता अभी भी अस्पताल में इलाज करा रहे हैं जिनमें से कई गंभीर रूप्  से घायल है। हावड़ा स्टेशन पर सुकांता मजुमदार, संतरागाछी में सुवेन्दु अधिकारी को गिरफ्तार किया गया था। ममता बनर्जी के पुलिस अत्याचार करने के बावजूद भारतीय जनता पार्टी पष्चिम बंगाल में भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन नहीं रोकेगी।तृणमूल का मतलब होता है जो मूल अर्थात जड़ से जुड़ा हो। किन्तु ममता बनर्जी और तृणमूल अब मूल अर्थात जड़ से कट गयी है।

Tags : #PoliticsNews #Politics #Lawless #MamtaBanerjee #BJPleaders #Ravishanker #Hindinews #Bengal

Rashtriya News

Related Articles

Back to top button