प्रवर्तन के कार्य को और कारगर बनाया जाये: नितिन अग्रवाल

 उत्तर प्रदेश के आबकारी राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नितिन अग्रवाल ने शुक्रवार को गन्ना संस्थान में आयोजित आबकारी विभाग की 06 माह की कार्ययोजना के संबंध में की गई समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि निर्धारित लक्ष्य को शत-प्रतिशत राजस्व संग्रहण पर बल देना अति आवश्यक है, ताकि प्रदेश के विकास कार्यों को और तीव्र गति मिल सके। आबकारी विभाग द्वारा 06 माह में वार्षिक राजस्व लक्ष्य 42,500 करोड़ के सापेक्ष 20,500 करोड़ राजस्व अर्जित करना निश्चित किया गया है। 

लखनऊ (आरएनएस)

 निर्धारित लक्ष्य से अधिक राजस्व प्राप्त करना हमारी प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि विभाग में किसी भी प्रकार से भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। यदि किसी अधिकारी के खिलाफ वित्तीय अनियमितता, भ्रष्टाचार या कार्यो में लापरवाही की शिकायत प्राप्त होती है, तो उसके विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।
आबकारी मंत्री ने कहा कि राजस्व अर्जन में आबकारी विभाग का प्रमुख स्थान है और सरकार की प्रभावी नीतियों के तहत पिछले पांच वर्षों में आबकारी विभाग द्वारा उल्लेखनीय राजस्व अर्जित किया गया है। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि पॉश मशीन द्वारा बीयर की सेलिंग 15 अगस्त तक करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिसको पूर्ण कराना सुनिश्चित करें, अन्यथा कड़ी कार्यवाही होगी। समीक्षा बैठक के दौरान आबकारी मंत्री ने कहाकि प्रवर्तन के कार्य को और कारगर बनाया जाये तथा अवैध मदिरा के उत्पादन पर पूरी तरह से अंकुश लगाते हुए दोषियों के विरूद्व कड़ी कार्यवाही की जाये। उन्होंने दूसरे पड़ोसी राज्यों से बिना सीमा शुल्क दिये आ रही मंदिरा के व्यापार पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने के निर्देश दिये। इसके साथ ही दुकानों की नियमित चेकिंग सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये। बैठक में आबकारी आयुक्त सेंथिल पंडियन सी, अपर आबकारी आयुक्त  दिव्य प्रकाश गिरि, अपर आबकारी आयुक्त डॉ0 योगेन्द्र सिंह, संयुक्त आबकारी आयुक्त हररीश चन्द्र, राजेश मणि त्रिपाठी के साथ अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

राष्ट्रीय न्यूज़

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

17 − 8 =

Back to top button