लव जिहाद,एक और हिन्दू लड़की बनी शिकार, ब्लैकमेल और फर्जी निकाह का खेला घिनोना खेल

देश की राजधानी दिल्ली में एक लव जिहाद का मामला सामने आया है। दिल्ली में रह रही एक युवती मूल रूप से यूपी के रामपुर की निवासी है। वर्ष 2017 में रामपुर के एक मंदिर में युवती एक युवक से मिली थी। जहां युवक ने उसे अपना नाम रोहन और दिल्ली का रहने वाला बताया था। उसने युवती से दोस्ती कर ली फिर कुछ दिनों बाद दिल्ली लौट गया। दिल्ली से वह बिलाल अहमद के नाम से फेसबुक पर फॉलो करना लगा। बिलाल ने युवती के सामने खुद को धर्म निरपेक्ष एंव हिंदू धर्म में मान्यता रखने वाला बताया। रोहन नाम बताने पर माफी भी मांग ली। उसके बाद सितंबर 2018 में बिलाल ने युवती को दिल्ली बुलाया। वहां से घुमाने के बहाने आगरा ले गया। 

आगरा में बिलाल ने बीमार होने का नाटक कर होटल में रूम बुक कराया। रात होने पर जूस में नशीला पदार्थ देकर युवती को बेहोश कर दिया। पीड़िता ने बताया कि होटल में बिलाल ने उसकी अश्लील तस्वीरें खींच ली और ब्लैक मेल करने लगा। नवंबर 2020 में बिलाल ने उसपर शादी के लिए मानसिक दबाव बनाया। 14 दिसंबर को बिलाल ने अपने चाचा के घर कुछ लोगों की उपस्थिति में बंद कमरे में युवती से निकाह कर लिया। अप्रैल 2021 में वह एक दूसरे फ्लेट में रहने लगा। युवती भी इस शादी को सच मानकर उसके साथ पत्नी के रूप में रहने लगी।

लेकिन इसके बाद बिलाल ने उसे टार्चर करना शुरू कर दिया। छह माह साथ रखकर 17 सितंबर को उसे ऋषिकेष घूमने भेजकर बिलाल फरार हो गया। इस पर युवती शहर कोतवाली क्षेत्र के एक मोहल्ले में स्थित घर पर पहुंची। इस पर यहां पर बिलाल अहमद ने कहा कि जितना इस्तेमाल करना था, मैं कर चुका हूं। जब युवती ने कहा कि मै तुम्हारी बीवी हूं अब कहां जाऊंगी। वह बिलाल अहमद के माँ-बाप से इंसाफ मागने लगी। लेकिनम, बिलाल के माँ-बाप पीड़िता से कहने लगे कि तीन चार लाख रुपये ले लो और दफा हो जाओ। विरोध करने पर कुछ लोगों ने शारीरिक संबंध बनाने का भी प्रयास किया। बिलाल की मां और बहन भी युवती को मारने लगी। इस पूरे मामले में पीड़िता ने बिलाल अहमद, हिला अहमद, गुफरान अहमद, शगुफ्ता परवीन, जवा और हसन के खिलाफ केस दर्ज कराया है। युवती की फरियाद पर पुलिस महानिरीक्षक लखनऊ के निर्देश के बाद यहां शहर कोतवाली पुलिस ने छह लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 − seven =

Back to top button