जानिए सीएसके की बुरी हालत के लिए फ्रेंचाइजी खुद ही कैसे है जिम्मेदार…

चार बार की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स की हालत आइपीएल 2022 में खराब है और ये टीम प्लेआफ से बाहर होने की कगार पर दिख रही है। इस टीम ने अब तक 10 मैच खेले हैं जिसमें से उसे 3 में जीत मिली है और 7 मैचों में हार का सामना करना पड़ा है। इस सीजन की शुरुआत में टीम का कप्तान रवींद्र जडेजा को बनाया गया था जिन्होंने 8 मैचों में कप्तानी करने के बाद ये जिम्मेदारी छोड़ दी और फिर से धौनी को कप्तान बना दिया गया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

सीएसके की इस स्थिति को देखकर टीम इंडिया के पूर्व ओपनर बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का मानना है कि अगर धौनी शुरू से ही कप्तान होते तो सीएसके उस स्थिति में नहीं होती जिस स्थिति में वे वर्तमान में हैं। सीएसके को अपने 10वें लीग मैच में आरसीबी के हाथों हार मिली और इस मुकाबले के बाद सहवाग ने क्रिकबज से बात करते हुए कहा कि उन्होंने पहली गलती सीजन की शुरुआत में की थी जब उन्होंने घोषणा की थी कि एमएस धौनी की  जगह टीम की कप्तानी रवींद्र जडेजा करेंगे। 

सहवाग ने आगे कहा कि इस सीजन में इस टीम का प्लेइंग इलेवन तय नहीं दिख रहा था। टीम के ओपनर बल्लेबाज रितुराज गायकवाड़ ने रन नहीं बनाए। उन्होंने खराब शुरुआत की, टीम के बल्लेबाजों ने रन नहीं बनाए तो ऐसे में ये सीजन उथल-पुथल से भरा रहने वाला था। अगर धौनी शुरु से ही टीम के कप्तान रहते तो बेहतर होता और शायद सीएसके इतने मैच नहीं हारती। वहीं आरसीबी के खिलाफ सीएसके को को हार मिली इसके बारे में सहवाग ने कहा कि इस मैच में बाजी पलट सकती थी, लेकिन जोस हेजलवुड ने एम एस धौनी को आउट करके सीएसके की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। उन्होंने कहा कि हेजलवुड जब गेंदबाजी करने आते हैं तो वह यार्कर या बाउंसर डालने की कोशिश नहीं करते। वह ऐसी लंबाई में गेंदबाजी करते हैं जहां बल्लेबाजों को जोखिम उठाना पड़ता है। उसकी ऊंचाई से उछाल के साथ उसका सामना करना आसान नहीं होता। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twelve + eighteen =

Back to top button