अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत के इन खिलाड़ियों को मिलेगा मौका

रिकार्ड चार बार की विजेता टीम इंडिया आइसीसी अंडर – 19 वर्ल्ड कप में आज अपने अभियान की शुरुआत दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ करेगी। यश धुल की कप्तानी वाली टीम आत्मविश्वास से भरी होगी। इसका कारण एशिया कप में जीतकर सीधे वेस्टइंडीज इस टूर्नामेंट में खेलने पहुंचना है। यह आत्मविश्वास आस्ट्रेलिया के खिलाफ वार्मअप मैच में भी देखने को मिला था। इस मैच टीम इंडिया के खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया था। इस मैच में सबकी निगाहें टीम इंडिया के इन खिलाड़ियों पर होगी।  

राजवर्धन हंगरगेकर

महाराष्ट्र की सीनियर टीम में डेब्यू के एक साल बाद 19 वर्षीय राजवर्धन हंगरगेकर वेस्टइंडीज में भारतीय सीम आक्रमण की अगुवाई करेंगे। दाएं हाथ के तेज गेंदबाज ने 2021 की शुरुआत में विजय हजारे ट्राफी में हिमाचल प्रदेश के खिलाफ 4/42 के प्रदर्शन के साथ अपनी लिस्ट ए करियर की शुरुआत की, जहां उन्होंने पांच मैचों में 10 विकेट लिए। दो बार वह एक ही पारी में 4 विकेट लेने में सफल रहे । अपनी आक्रामक गेंदबाजी के अलावा, हंगरगेकर लंबे-लंबे छक्के लगाने में माहिर हैं। हंगरगेकर ने आलराउंड प्रदर्शन से वीनू मांकड़ ट्राफी में काफी प्रभावित किया। उन्होंने आठ पारियों में रिकार्ड 16 छक्कों और दो अर्द्धशतकों के साथ 216 रन बनाए। उन्होंने 12 के औसत से 19 विकेट लिए और सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में दूसरे स्थान पर रहे। हंगरगेकर ने दिसंबर में इंडिया अंडर 19 टीम का हिस्सा थे, जिसने एशिया कप में जीत दर्ज की। इस दौरान उन्होंने पांच मैचों में आठ विकेट लिए।

हरनूर सिंह

अठारह वर्षीय हरनूर सिंह शानदार फार्म में हैं। जालंधर में जन्मे इस खिलाड़ी ने चंडीगढ़ में अपने कौशल दिखाया। उऩ्होंने अंडर -19 चैलेंजर ट्राफी को चार पारियों में 418 रन बनाए। इसमें तीन शतक शामिल हैं। हरनूर ने दिसंबर की शुरुआत में अंडर -19 ट्राई सीरीज में भी शतक लगाया। इसके बाद यूएई में अंडर -19 एशिया कप में पांच मैचों में 251 रन बनाकर शीर्ष रहे। इस दौरान उन्होंने मेजबान टीम के खिलाफ 120 रनों की पारी खेली। गुयाना में भारत के दूसरे अभ्यास मैच में आस्ट्रेलिया के खिलाफ नाबाद 100 रनों के साथ हरनूर ने काफी प्रभावित किया।

राज अंगद बावा

19 वर्षीय राज अंगद बावा हाल ही में अंडर-19 टूर्नामेंट में अपने हरफनमौला प्रदर्शन के बाद टीम इंडिया के महत्वपूर्ण सदस्य बनकर उभरे हैं। हिमाचल में जन्मे राज अंगद का परिवार खेल से जुड़ा रहा हैं। उनके दादा तरलोचन सिंह बावा 1948 के ओलंपिक स्वर्ण विजेता भारतीय टीम के प्रमुख सदस्य थे, जबकि उनके पिता सुखविंदर सिंह, युवराज सिंह के कोच थे। बाएं हाथ के हार्ड-हिटिंग बल्लेबाज और दाएं हाथ के मिडियम पेसर राज अंगद ने अक्टूबर-नवंबर 2021 में वीनू मांकड़ ट्राफी और चैलेंजर ट्राफी के दौरान अपने कौशल की झलक दिखाई। उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात में अंडर -19 एशिया कप के दौरान चार मैचों में आठ विकेट लिए।

यश धुल

टीम इंडिया के कोच हृषिकेश कानिटकर के शब्दों में एक ‘सहज कप्तान’, दिल्ली के 19 वर्षीय यश धुल ने अपने नेतृत्व कौशल के साथ-साथ बल्लेबाजी से भी प्रभावित किया है। धुल ने पहले अंडर -16 और अंडर -19 क्रिकेट में दिल्ली का नेतृत्व किया था। उनको वीनू मांकड़ ट्राफी और चैलेंजर ट्राफी में मजबूत पारियों के दम पर कप्तान चुना गया। धुल की कप्तानी में दिसंबर के अंत में यूएई में एशिया कप खिताब के लिए टीम इंडिया सफल रही। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 3 =

Back to top button