आजादी के अमृत महोत्सव में सरदार पटेल से प्रेरणा लेकर भारत बढ़ रहा आगे- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि भारत के समाज की विकास यात्रा हजारों सालों की है। तमाम चुनौतियों के बावजूद भारतीय समाज ने निरंतर प्रगति की है। देश के लोगों को सरकार का अभाव भी नहीं लगना चाहिए।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए कानून मंत्रियों और कानून सचिवों के अखिल भारतीय सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव में सरदार पटेल से प्रेरणा लेकर भारत आगे बढ़ रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत के समाज की विकास यात्रा हजारों सालों की है। तमाम चुनौतियों के बावजूद भारतीय समाज ने निरंतर प्रगति की है। देश के लोगों को सरकार का अभाव भी नहीं लगना चाहिए। देश के लोगों को सरकार का दबाव भी महसूस नहीं होना चाहिए।

कानून मंत्रियों के अखिल भारतीय सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा कि पीछे हटने वाले औपनिवेशिक कानूनों को हटाकर उपनिवेशवाद की बेड़ियों को तोड़ना हमारे लिए जरूरी है। तभी भारत सही मायने में प्रगति कर सकता है। पिछले 8 सालों में हमने जीवन को आसान बनाने के लिए 32,000 अनुपालनों को हटा दिया है।

दो दिवसीय सम्मेलन की मेजबानी गुजरात के एकता नगर में कानून और न्याय मंत्रालय द्वारा की जा रही है। 

कानून के आपसी सहयोग में सुधार करने में यह सम्मेलन होगा सक्षम

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) द्वारा जारी एक बयान में कहा गया कि इसका उद्देश्य नीति निर्माताओं के लिए भारतीय कानूनी और न्यायिक प्रणाली से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए एक आम मंच प्रदान करना है। इस सम्मेलन के माध्यम से राज्य और केंद्र शासित प्रदेश अपनी सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने, नए विचारों का आदान-प्रदान करने और अपने आपसी सहयोग में सुधार करने में सक्षम होंगे।

इस कार्यक्रम में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के कानून मंत्री और सचिव शामिल होंगे। पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भाग लेंगेथ

कानूनी व्यवस्था को मजबूत करना इस सम्मेलन का रहेगा प्रमुख बिंदु

पीएमओ ने बताया कि यह सम्मेलन वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र जैसे त्वरित और किफायती न्याय के लिए मध्यस्थता, समग्र कानूनी बुनियादी ढांचे को उन्नत करने, अप्रचलित कानूनों को हटाने, न्याय तक पहुंच में सुधार, मामलों की लंबितता को कम करने और त्वरित सुनिश्चित करने जैसे विषयों पर चर्चा करेगा। निपटान, बेहतर केंद्र-राज्य समन्वय के लिए राज्य के बिलों से संबंधित प्रस्तावों में एकरूपता लाना और अन्य के साथ-साथ राज्य की कानूनी व्यवस्था को मजबूत करना इस सम्मेलन का प्रमुख बिंदु रहेगा।

Related Articles

Back to top button