ग्रेटर नोएडा में चल रहे पब में तैयार हो रहे थे चीनी स्लीपर सेल, पुलिस की छापेमारी में 20 विदेशी युवक और 12 युवतियां भाग निकलीं

ग्रेटर नोएडा के घरबरा इलाके में स्थित एक बिल्डिंग में तियांगशांग रेंजियन नाम का पब संचालित कर वहां चीनी स्लीपर सेल तैयार किए जा रहे थे। बिहार के सीतामढ़ी में भारत-नेपाल बार्डर पर पकड़े गए दो चीनी नागरिकों को पनाह देने वाले चीनी जासूस सु फाई से हुई पूछताछ में इस पब के बारे में पता चलने पर पुलिस ने मंगलवार रात छापेमारी की।

पुलिस के पहुंचने से पहले ही करीब 20 विदेशी युवक और 12 विदेशी युवतियां वहां से भाग निकलीं। मौके से असम व मणिपुर की तीन युवतियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है जो गेस्ट हाउस में खाना बनाने का काम करती हैं। उनसे पूछताछ में पता चला है कि यहां कई चीनी नागरिक आकर रुकते थे, जो स्थानीय स्तर पर अपने लिए स्लीपर सेल तैयार करते थे।

बार्डर पर पकड़े गए दोनों चीनी नागरिक भी इसी पब में कई दिन रुके थे। इसका पर्दाफाश चीनी नागरिकों द्वारा इस्तेमाल किए गए भारतीय सिम की लोकेशन निकालने पर हुआ है। बिल्डिंग में छापेमारी के दौरान पुलिस को एक फ्लोर पर पब चलता हुआ मिला। एक फ्लोर पर रेस्तरां चल रहा था। बिल्डिंग में करीब 50 कमरे बने हैं जिनमें विदेशी नागरिक रुकते थे। हैरानी की बात यह है कि इस बिल्डिंग को मोबाइल फोन बनाने वाली वीवो कंपनी का गेस्ट हाउस बताकर किराए पर लिया गया था, जिससे किसी को कोई शक न हो।

चीनी जासूस ने दी थी जानकारी

बार्डर पर पकड़े गए दो चीनी नागरिकों को ग्रेटर नोएडा में पनाह देने और जासूसी के शक में पकड़े गए चीनी नागरिक सु फाई ने मंगलवार रात पुलिस को चीनी नागरिकों के अड्डे के बारे में बताया, जहां से फर्जी कागजात तैयार करने, वित्तीय जालसाजी में लिप्त होने व स्लीपर सेल तैयार करने का रैकेट संचालित किया जा रहा था।

उसने बताया है कि यह पूरी बिल्डिंग वीवो कंपनी के गेस्ट हाउस के नाम पर उसके ही दोस्त रवि कुमार नटवरलाल ने किराए पर ली हुई है। बिल्डिंग के केयरटेकर का काम अशोक नाम का व्यक्ति देख रहा था। ये सभी लोग पुलिस छापेमारी के दौरान मौके से भाग निकले।

आबकारी विभाग की मिलीभगत आई सामने

सूत्रों ने दावा किया है कि आबकारी विभाग की मिलीभगत से ही अवैध रूप से यहां पब संचालित किया जा रहा था। यहां आने वाले लोगों को महंगी-महंगी शराब व अन्य नशीले पदार्थ दिए जाते थे। इसके लिए विदेशी लड़कियां रखी गई थीं।

कई तरह की मशीन व लैपटाप का होता था प्रयोग

मौके से पकड़ी गई युवतियों से पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि पब में आने जाने वाले लोग अक्सर कई अलग-अलग तरीकों की मशीन का प्रयोग करते थे और हमेशा अपने साथ लैपटाप रखते थे। आशंका है कि वे देश का महत्वपूर्ण डाटा जुटाते थे।

ग्रेटर नोएडा बीटा दो कोतवाली के एसएचओ अनिल राजपूत ने बताया कि ग्रेटर नोएडा के घरबरा इलाके में एक बिल्डिंग में पब चलने का इनपुट मिला था। छापेमारी के दौरान कुछ युवतियां मिली हैं। बार्डर पर पकड़े गए चीनी नागरिक इस पब में भी रुके थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 × 5 =

Back to top button