गोरखपुर या अयोध्या से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लड़ेंगे विधानसभा का चुनाव

उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए जोरदार तैयारी में लगी भारतीय जनता पार्टी तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी चुनाव लड़ाएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या और गोरखपुर में से किसी एक जगह से चुनाव लड़ सकते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनावी वर्ष 2022 के पहले दिन शनिवार को पूरे आत्मविश्वास के साथ दावा किया कि विधानसभा चुनाव में भाजपा न केवल 300 से ज्यादा सीटें जीतेगी, बल्कि फिर सरकार भी बनाएगी। तमाम अटकलों और चर्चाओं को किनारे करते हुए स्पष्ट बोले कि वह चुनाव लडऩे के लिए तैयार हैं। कहां से लड़ेंगे, यह पार्टी तय करेगी। यह भी साफ कर दिया कि भाजपा एक परिवार है, जिसमें सभी को अपनी भूमिका बदले जाने के लिए तैयार रहना होता है।

नए वर्ष पर अपने सरकारी आवास पर पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने सरकार की तमाम उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा कि जो कहा था, उसे पूरा किया है। एक सवाल पर उन्होंने कहा कि हाल के वर्षों में केन्द्र व राज्य सरकार के विकास कार्यों के आगे जातियों की राजनीति हाशिए पर पहुंच गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा परिवार है। यहां सभी को अपनी भूमिका बदले जाने के लिए तैयार रहना होता है। इस बार पार्टी का निर्देश है कि मैं भी चुनाव लड़ूं तो मैं इसके लिए तैयार हूं। उन्होंने मैं चुनाव लडूंगा? मैं चुनाव लडऩे के लिए तैयार हूं। अयोध्या या गोरखपुर से चुनाव लडऩे की संभावना जताए जाने पर योगी आदित्यनाथ ने मुस्कुराते हुए कहा कि वैसे तो मैं सभी 403 सीटों से चुनाव लड़ रहा हूं, लेकिन मेरी कोई व्यक्तिगत इच्छा नहीं है। पार्टी जहां से कहेगी, वहां से चुनाव लड़ लूंगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वर्तमान में विधान परिषद के सदस्य हैं। परिषद सदस्य के रूप में उनका कार्यकाल इसी वर्ष छह जुलाई तक का है। प्रदेश में एक बार फिर भाजपा सरकार बनने की संभावनाओं पर योगी आदित्यनाथ ने पूरे आत्मविश्वास से जवाब देते हुए कहा कि भाजपा एक बार फिर 300 से अधिक सीटें जीतेगी और सरकार भी बनाएगी।

कांग्रेस की प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा के प्रदेशवासियों से लुभावने वादों पर योगी आदित्यनाथ ने कटाक्ष करते हुए कहा कि क्यों नहीं पहले वह छत्तीसगढ़ व राजस्थान के लोगों के लिए ऐसा कर रही हैं। अखिलेश यादव के सपा सरकार बनने पर मुफ्त बिजली देने की घोषणा पर कहा कि वर्ष 2012 से 17 तक की समाजवादी पार्टी की सरकार में चार जिलों को छोड़ सभी 75 जिलों में बिजली तो दे नहीं रहे थे। ऐसी नीयत वाले अब मुफ्त बिजली क्या देंगे। अखिलेश की विश्वसनीयता पर सवाल उठाते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उनकी बातों पर कौन भरोसा करेगा कि वह होते तो राम मंदिर अब तक बन जाता। पीएम मोदी ने 13-14 वर्षों में गुजरात में जो करके दिखाया, उससे ही उनके प्रति सभी का विश्वास और भरोसा बना हुआ है। जन विश्वास यात्राओं का जिक्र करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेशभर में अच्छा वातावरण है।  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

seventeen + 18 =

Back to top button