सर्दी में गले के टॉन्सिल से परेशान हैं ,तो जरुर अपनाए ये देसी उपचार

सर्दी के मौसम में कुछ बीमारियां लोगों को ज्यादा परेशान करती है। टॉन्सिल सर्दी में गले में पनपने वाली ऐसी बीमारी है जो बैक्टिरियां और वायरल दोनों के कारण पनपती है। टॉन्सिल की वजह से गले में सूजन, दर्द, खराश हो जाती है और कुछ भी खाना-पीना दूभर हो जाता है। सर्दी में ठंडी चीजें खाने से, आचार खाने से, खट्टी चीजों का सेवन करने से, फ्लू के कारण इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण टॉन्सिल की परेशानी होने लगती है। टॉन्सिल का इलाज लोग एलोपैथिक दवाईयों से करते हैं लेकिन कुछ दवाईयों के साइड इफेक्ट होने के डर से देसी नुस्खों से इसका इलाज करते हैं। आप जानते हैं कि टॉन्सिल के उपचार में देसी दवाईयां बेहद असरदार साबित होती है। आइए जानते हैं कि देसी नुस्खों से टॉन्सिल का उपचार कैसे करें।

शहद का करें इस्तेमाल:

एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर शहद बॉडी के लिए बेहद फायदेमंद है। इसका सेवन करने से गले में टॉन्सिल से छुटकारा मिलता है। शहद का इस्तेमाल आप दूध में मिलाकर कर सकते हैं। आप चाहें तो पानी में हल्दी और शहद मिलाकर भी पी सकते हैं।

पानी में नमक डालकर करें गरारे:

नमक के पानी से गरारे मुहं की परेशानियों को दूर करने में बेहद असरदार हैं। एक गिलास गर्म पानी लें और उसमें थोड़ा सा नमक मिलाएं और उससे दिन में दो से तीन बार गरारे करें। गर्म पानी से गरारे करने से गले को राहत मिलती है।

पुदीने की चाय का करें सेवन:

औषधीय गुणों से भरपूर पुदीना में एंटी-ऑक्सीडेंट्स गुण भी मौजूद होते हैं जो गले को जल्द ही ठीक करने में मददगार है। पुदीने की चाय को दिन में दो से तीन बार पीने से गले के टॉन्सिल्स से निजात मिलेगी।

हल्दी का दूध है असरदार:

गले में टॉन्सिल हैं तो हल्दी के दूध का सेवन करें। उबलते हुए दूध में थोड़ी सी हल्दी और काली मिर्च डालकर इसे सोते समय पीएं टॉन्सिल जल्दी ठीक हो जाएंगे।

गाजर का जूस:

गाजर में कई एंटी टॉक्सिन गुण मौजूद होते हैं जो टॉन्सिल्स को कम करने में बेहद कारगर मानी जाती है। गाजर का जूस ना सिर्फ टॉन्सिल के दर्द से राहत दिलाता है बल्कि इससे कब्ज से भी निजात मिलती है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

2 × one =

Back to top button