प्यास बुझाने के लिए आप भी पीते हैं फ्रिज का ठंडा पानी तो हो जाएं सतर्क

गर्मियों में अपनी प्यास बुझाने के लिए क्या आप भी फ्रिज में रखा चिल्ड वाटर पीते हैं? अगर जवाब हां में है तो आपको सतर्क होने की जरूरत है। आपकी ये आदत आपको अनजाने में ही मोटापे के अलावा कई अन्य रोगों का शिकार बना सकती है। आइए जानते हैं आखिर फ्रिज में रखा पानी  पीने से सेहत को क्यों और कौन से साइडइफेक्ट्स होते हैं।

फ्रिज का पानी क्यों करता है नुकसान-
फ्रिज का पानी कृत्रिम तरीके से सामान्य से अत्यधिक कम तापमान पर होता है। जिसकी वजह से सेहत को नुकसान हो सकता है।

न्यूट्रिशनिस्ट और वैलनेस एक्सपर्ट वरुण कत्याल ( Varun Katyal, Nutritionist And Wellness Expert) कहते हैं कि ठंडा पानी या फिर ठंडे पेय पदार्थ आपकी रक्त वाहिकाओं को सिकोड़कर आपकी पाचन क्रिया को बाधित कर सकते हैं। इसके अलावा यह पाचन के दौरान पोषक तत्वों के अवशोषित होने की प्राकृतिक प्रक्रिया में भी बाधा डालता है। जिसकी वजह से शरीर का ध्यान पाचन से हटकर आपके शरीर के तापमान और पानी के तापमान को नियंत्रित करने की कोशिश में लग जाता है। जिससे वास्तव में पानी की कमी हो सकती है और आप डिहाईड्रेशन महसूस कर सकते हैं।

शरीर का सामान्य तापमान 37 डिग्री सेल्सियस होता है, लेकिन आप जब कम तापमान वाली किसी चीज का सेवन करते हैं, तो आपका शरीर इस तापमान को नियंत्रित करने के लिए अधिक ऊर्जा खर्च करके इसकी भरपाई करता है। यह अतिरिक्त ऊर्जा जो फिलहाल तापमान को नियंत्रित करने के लिए उपयोग की जा रही होती है  मूल रूप से पाचन और पोषक तत्वों को अवशोषित करने की प्रक्रिया में उपयोग की जाती है। यही वजह है कि पानी को हमेशा कमरे के तापमान पर रखकर पीने की सलाह दी जाती है।

फ्रिज का पानी पीने से सेहत को होने वाले नुकसान-
मोटापा-

ठंडा पानी आपके शरीर में जमे फैट को और सख्त बनाता है जिस वजह से फैट बर्न होने में दिक्कत आती है। अगर आप अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो ठंडे पानी से दूर रहें। कोशिश करें कि कम से कम ठंडा पानी पीएं और ज्‍यादा से ज्यादा गर्म या नॉर्मल पानी पीएं। गर्म पानी से आपकी बॉडी में मौजूद फैट आसानी से बाहर निकल सकता है।

पाचनशक्ति हो सकती है खराब
बहुत अधिक ठंडा पानी पीने से पाचन तंत्र प्रभावित हो सकती है। इससे खाना पचने में दिक्कत हो सकती है, कब्ज, पेट दर्द, जी मिचलाना, पेट फूलना जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। जब शरीर में ठंडा पानी जाता है, तो शरीर के तापमान से मेल नहीं खाता। ऐसे में ठंडा पानी शरीर में पहुंचकर पेट में मौजूद भोजन को पचाना मुश्किल कर देता है।

कब्ज-
फ्रिज का चिल्ड पानी पीने से बड़ी आंत सिकुड़ जाती है, जिसकी वजह से आंत अपना काम ठीक प्रकार से नहीं कर पाती है। बड़ी आंत के अच्छे से काम न करने की वजह से व्यक्ति का पेट साफ नहीं होता और वह कब्ज की शिकायत करने लगता है। 

गला खराब-
आपने ज्यादातर लोगों को यह कहते भी सुना होगा कि फ्रिज का ठंडा पानी पीने से उनका गला खराब हो गया है। ध्यान रखें जरूरत से ज्यादा ठंडा पानी पीने से कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को परेशानी हो सकती है। जिसकी वजह से उन्हें गले में खराश, खांसी या अन्य कोई संक्रमण परेशान कर सकता है। 

सिर दर्द और साइनस की समस्या- 
अधिक ठंडा पीने से ‘ब्रेन फ्रीज’ की समस्‍या हो सकती है। यह समस्या बर्फ वाला पानी पीने या फिर आइस क्रीम ज्यादा खाने से होती है। इसमें ठंडा पानी स्पाइन की सेंसेटिव नसों को ठंडा कर कर देता है जिसका असर दिमाग पर पड़ता हैं। जो आगे चलकर सिर दर्द और साइनस का कारण बन सकता है। 

लो हार्ट रेट-
हमारे शरीर में वेगस नर्व (vagus nerve) होती है जो गर्दन से होते हुए हार्ट, लंग्स और डाइजेस्टिव सिस्टम को कंट्रोल करती है। आप ज्यादा ठंडा पानी पीते हैं तो ये नर्व को तेजी से ठंडी कर देती है और हार्ट रेट और पल्‍स रेट लो हो जाती है। इससे हार्ट से संबंधित कई अन्य समस्याएं हो सकती हैं। 

एनर्जी लेवल डाउन-
ठंडा पानी पीने से बॉडी में मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो काम करने लगते हैं और शरीर में ज्‍यादा काम करने की क्षमता नहीं रह जाती है। दरअसल ठंडा पानी शरीर से फैट को रिलीज नहीं कर पाता है, जिस वजह से शरीर सुस्‍त रहता है और एनर्जी लेवल डाउन हो जाता है।  
  
कैसा पानी पिएं- 
गर्मियों में आप गर्म या गुनगुना पानी पीने की जगह रूम टेंप्रेचर में रखा  पानी या मटके वाला पानी पी सकते हैं। इससे आपकी प्यास भी बुझ जाएगी और आपको कोई नुकसान भी नहीं होगा। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 × one =

Back to top button