GATE 2022 के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ़ी ,अब इस तारीख तक कर सकते हैं आवेदन

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, आईआईटी खड़गपुर ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग, GATE 2022 के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि को आगे बढ़ा दिया है। नोटिस के मुताबिक अब अभ्यर्थी बिना लेट फीस के कल यानी 30 सितंबर, 2021 तक रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। जिन अभ्यर्थियों ने अभी तक आवेदन पत्र जमा नहीं किया है, वे आधिकारिक वेबसाइट-gate.iitkgp.ac.in पर जाकर अप्लाई कर सकते हैं।
बता दें कि बिना लेट फीस के गेट 2022 के लिए रजिस्ट्रेशन करने की अंतिम तिथि को दूसरी बार बढ़ाया गया है। पहले आवेदन करने की अंतिम तिथि 28 सितंबर, 2021 थी। उम्मीदवारों को यह भी ध्यान रखना चाहिए कि ये परीक्षा तिथियां केवल अस्थायी हैं और इन्हें कभी भी बदला जा सकता है। यदि उम्मीदवारों ने अब तक आवेदन नहीं किया है या आवेदन शुल्क का भुगतान नहीं किया है, तो उन्हें सलाह दी जाती है कि वे इसे जल्द से जल्द और कल आवेदन बंद होने से पहले करें। परीक्षा के लिए आवेदन कैसे करें, इसकी चरण-दर-चरण प्रक्रिया नीचे देखें।

गेट 2022: आवेदन कैसे करें

उम्मीदवार ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग 2022 या GOAPS -gate.iitkgp.ac.in की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
होमपेज पर, ‘पंजीकरण’ नामक लिंक पर क्लिक करें।
वैकल्पिक रूप से, उम्मीदवार GATE 2022 के लिए आवेदन करने या पंजीकरण करने के लिए यहां दिए गए सीधे लिंक पर क्लिक कर सकते हैं।

  • एक नया पेज खुलेगा जो आपको अपना विवरण दर्ज करने के लिए प्रेरित करेगा।
  • अब, अपने पंजीकृत क्रेडेंशियल जैसे ईमेल आईडी / उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड का उपयोग करके लॉगिन करें।
  • अपना व्यक्तिगत विवरण, शैक्षणिक विवरण या जो कुछ भी पूछा जाता है, उसे देकर आवेदन पत्र भरें।
  • सभी दस्तावेज अपलोड करें और आवेदन शुल्क का भुगतान करें।
  • आपका GATE 2022 आवेदन पत्र जमा किया जाएगा।
  • भविष्य के संदर्भों के लिए उसी की एक प्रति डाउनलोड और प्रिंट करें।
    जमा करना होगा इतना आवेदन शुल्क
  • GATE 2022 के लिए आवेदन करने वाले सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थी को 1500 रुपये बतौर आवेदन शुल्क जमा करना होगा। वहीं आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 750 रुपये का शुल्क निर्धारित किया गया है। उम्मीदवारों को ध्यान देना चाहिए कि IIT खड़गपुर ने इस साल तीन नए पेपर पेश किए हैं। ये हैं नेवल आर्किटेक्चर, मरीन इंजीनियरिंग और जियोमैटिक्स इंजीनियरिंग।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − 2 =

Back to top button