पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने नए चुनावों की घोषणा होने तक मौजूदा शहबाज शरीफ सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी रखने का लिया संकल्प…

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (Pakistan Tahreek-e-Insaf) पार्टी के प्रमुख इमरान खान (Imran Khan) ने रविवार को कहा कि उनकी पार्टी नए चुनावों की घोषणा तक पाकिस्तान की ‘आयातित’ सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी रखेगी। ARY न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पीटीआइ (PTI) प्रमुख ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से उनके आह्वान के लिए तैयार रहने को कहा क्योंकि वे नए चुनाव की तारीख चाहते हैं। चुनाव की तारीख की घोषणा तक विरोध जारी रहेगा।

अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाना राष्ट्रीय कर्तव्य

पूर्व प्रधानमंत्री ने बढ़ती महंगाई के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करने वाले अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा कि अत्याचार और अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना एक राष्ट्रीय कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार ने महंगाई में भारी वृद्धि की है, जिसका असर गरीब लोगों पर पड़ रहा है।

‘राष्ट्रीय सुरक्षा और संप्रभुता से किया जाएगा समझौता’

इमरान खान ने कहा, ‘संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) से किसी भी प्रकार की छूट की मांग के बदले में राष्ट्रीय सुरक्षा और संप्रभुता से समझौता किया जाएगा। वर्तमान सरकार ने सरकार के दौरान मुद्रास्फीति विरोधी मार्च का आयोजन किया था, वहीं अब डीजल और पेट्रोल की दरों में क्रमशः 115 रुपये और 85 रुपये की बढ़ोतरी की गई है।

मौजूदा सरकार के आरोपों को किया खारिज

पीटीआइ प्रमुख ने मौजूदा सरकार द्वारा लगाए गए आरोपों को खारिज कर दिया कि पीटीआइ सरकार की नीतियां और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के साथ समझौता आसमान छूती मुद्रास्फीति के कारण थे। उन्होंने कहा कि पीटीआइ सरकार ने IMF के दबाव के बावजूद ईंधन की कीमतों को नियंत्रित किया और पेट्रोल की दर में 10 रुपये प्रति लीटर की कमी की।

अमेरिका पर लगाया पीटीआइ सरकार गिराने का आरोप

इमरान खान ने कहा कि अमेरिका ने एक साजिश के माध्यम से पीटीआइ सरकार को गिराने का फैसला किया था, जबकि ‘मीर जाफर और पाकिस्तान के मीर सादिक’ ने कथित विदेशी साजिश में योगदान दिया था। ARY न्यूज ने बताया कि उन्होंने विदेशी साजिश की सफलता के मामले में तटस्थ लोगों को राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के लिए विनाशकारी परिणामों की चेतावनी दी थी।

नागरिकों को राहत देने के लिए गंभीर नहीं है शरीफ सरकार

पाकिस्तान की मौजूदा शहबाज शरीफ सरकार (Shehbaz Sharif government) के बारे में बोलते हुए पीटीआइ प्रमुख ने कहा, ‘मौजूदा शासकों के सत्ता में आने के अलग-अलग मकसद हैं क्योंकि वे नागरिकों को राहत देने के लिए नहीं बल्कि अपने मामलों को सुलझाने के लिए गंभीर हैं।’ उन्होंने कहा, ‘अगर हम अमेरिका से कोई सुविधा चाहते हैं, तो राष्ट्रीय सुरक्षा और संप्रभुता पर समझौता होगा। भारत, अमेरिका और इज़राइल के पास पाकिस्तान की सुरक्षा को निशाना बनाने का एजेंडा है।’

देश भर में विरोध प्रदर्शन कर रही पीटीआइ

गौरतलब है कि रविवार को पार्टी अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के आह्वान पर बढ़ती महंगाई के खिलाफ पीटीआइ के समर्थकों और कार्यकर्ताओं द्वारा देशभर में विरोध प्रदर्शन किया गया था। ‘डान’ की रिपोर्ट के अनुसार, प्रदर्शनकारी कराची के शाहरा-ए-कायदीन में इकट्ठा हुए और सिंध प्रांत के पूर्व गवर्नर इमरान इस्माइल और पीटीआइ के स्थानीय नेतृत्व के अन्य सदस्यों के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन किया।

प्रदर्शनकारियों ने सरकार के खिलाफ की नारेबाजी

पेशावर में मुख्य हश्तनगरी गेट के सामने प्रदर्शनकारियों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए पाकिस्तान की मौजूदा सरकार के खिलाफ नारे लगाए। इस्लामाबाद और पड़ोसी रावलपिंडी में भी इसी तरह के विरोध प्रदर्शन हुए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

seventeen + eighteen =

Back to top button