ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने किया बड़ा दावा,आने वाले समय में इस वजह से खत्म हो जाएगा टेस्ट क्रिकेट

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल का मानना है कि टी20 फॉर्मेट के लगातार बढ़ते कदमों से टेस्ट क्रिकेट पर गहरा असर पड़ रहा है विशेषकर कोविड-19 के कारण पैदा हुई मुश्किल परिस्थितियों में लंबी अवधि के प्रारुप के लिए स्थिति अधिक विकट हो गई है. चैपल ने कहा कि टी20 में मैच पूरा करने में कम समय लगता है और इसलिए यह पारंपरिक प्रारप पर हावी हो गया है.

टेस्ट क्रिकेट हो जाएगा खत्म 

चैपल ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो में अपने कॉलम में लिखा, ‘यूएई में टी20 विश्व कप खेला जाना है और उसके बाद उम्मीद है कि ऑस्ट्रेलिया में एशेज सीरीज होगी. एशेज सीरीज को लेकर चली बातचीत का मुख्य कारण कोविड महामारी थी लेकिन टी20 फॉर्मेट टेस्ट क्रिकेट पर अधिक गहरा प्रभाव डाल रहा है.’

चैपल ने कहा, ‘टी20 टूर्नामेंट में भाग लेने वाले देशों को शामिल करने के लिए केवल कुछ दिनों की जरूरत होती है और इसलिए वर्तमान की मुश्किल परिस्थितियों में लंबी अवधि की टेस्ट सीरीज की तुलना में इसमें समझौता करना आसान होता है. कम समय का होने के कारण टी20 क्रिकेट उन देशों को टेस्ट मैचों की तुलना में अधिक अनुकूल लगता है जो पारंपरिक तौर पर क्रिकेट खेलने वाले देश नहीं हैं. यही वजह है कि आगामी टी20 टूर्नामेंट में ओमान और पापुआ न्यूगिनी जैसे देश भाग ले रहे हैं.’

टी20 क्रिकेट खिलाड़ियों को ज्यादा पसंद

ऑस्ट्रेलिया के इस दिग्गज ने कहा कि टी20 फॉर्मेट खिलाड़ियों के लिए अधिक लुभावना और आकर्षक है. चैपल ने कहा, ‘टी20 फॉर्मेट ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड को छोड़कर अन्य देशों में टेस्ट क्रिकेट की तुलना में अधिक लुभावना और लोकप्रिय है. जब अन्य मामलों की बात आती है तो अधिकतर प्रशासकों को अदूरदर्शी माना जाता है और इस लिहाज से यह खेल की भविष्य की किसी भी योजना की दृष्टि से महत्वपूर्ण बिंदु है. टेस्ट खिलाड़ी तैयार करने के लिए आवश्यक आधारभूत लागत गैर पारंपरिक क्रिकेट देशों के लिए अत्याधिक होगी. दूसरी तरफ वे एक टी20 प्रतियोगिता का संचालन कर सकते हैं जिससे उनकी अच्छी आय भी होगी.’

टी20 क्रिकेट में होती है कमाई 

चैपल ने कहा, ‘यहां तक कि अगर गैर पारंपरिक देश की अपनी टी20 प्रतियोगिता नहीं है तब भी उसके बेहतर खिलाड़ियों के पास विदेशों में टूर्नामेंट खेलकर अच्छी कमाई करने का अवसर रहेगा.’ चैपल ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट चलता रहेगा लेकिन यह पारंपरिक क्रिकेट देशों तक ही सीमित रहेगा. उन्होंने कहा, ‘इन सब बातों पर गौर करने पर पता चलता है कि भविष्य में टेस्ट सीरीज पारंपरिक क्रिकेट देशों के बीच ही खेली जाएंगी. टेस्ट खेलने वाले नए देशों आयरलैंड और अफगानिस्तान में खेल का लंबा फॉर्मेट फलेगा फूलेगा इसकी संभावना कम लगती है.’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × two =

Back to top button