ऐतिहासिक और सांस्कृतिक कारणों से बेहद खास है कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) कुशीनगर में आज उत्तर प्रदेश के तीसरे अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट (Kushinagar International Airport) का उद्घाटन किया। 260 करोड़ रुपये की लागत से बने इस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से नवंबर में नियमित उड़ान शुरू हो जाएगी। कुशीनगर एक अंतरराष्ट्रीय बौद्ध तीर्थस्थल है जहां भगवान गौतम बुद्ध (Lord Buddha)  का महापरिनिर्वाण हुआ था।हवाई अड्डे के उद्घाटन के बाद प्रधानमंत्री बुधवार को बौद्ध स्थल महापरिनिर्वाण स्तूप और मंदिर में एक कार्यक्रम को भी संबोधित करेंगे जिसमें श्रीलंकाई बौद्ध भिक्षु और श्रीलंका सरकार के मंत्री शामिल होंगे। कुशीनगर बौद्ध परिपथ का केंद्र बिंदु है। इस परिपथ में लुंबिनी, सारनाथ और गया भी शामिल हैं।

jagran

पहली उड़ान 125 गणमान्य व्यक्तियों और बौद्ध भिक्षुओं के साथ श्रीलंका के कोलंबो से इस हवाई अड्डे पर उतरेगी। इस हवाई अड्डे से दुनिया भर के बौद्धों को भगवान बुद्ध के महापरिनिर्वाण स्थल की यात्रा करने की सुविधा मिल सकेगी।

jagranकुशीनगर हवाई अड्डे के नए टर्मिनल की 3600 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैली इमारत 260 करोड़ रुपये की लागत से भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से बनाई है। यह हवाईअड्डा 300 यात्रियों को संभालने में सक्षम है।

jagran

हवाई अड्डे के उद्घाटन से पर्यटकों की आमद में 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी होने की उम्मीद है। इस हवाई अड्डे के उद्घाटन के बाद बौद्ध परिपथ के लुंबिनी, बोधगया, सारनाथ, कुशीनगर, श्रावस्ती, राजगीर, संकिसा और वैशाली की यात्रा कम समय में पूरी की जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − 5 =

Back to top button