जिले में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर जिला भाजपा ने ज्ञापन देकर दिया अल्टीमेटम

धोलपुर, राजस्थान
1 जुलाई इंडियन पब्लिक सर्विस फेडरेशन के देशव्यापी आहवान पर धोलपुर के कर्मचारीयों ने जिलाध्यक्ष राम किशोर पाठक के नेतृत्व मे फ्रीज़ महगाई भत्ते की भुगतान की मांग की एवं सरकार को आगाह किया कि देशभर के कर्मचारियों की नाराजगी से आगामी चुनाव में भारी नुकसान होगा।     

    नर्सिंग टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष एवं इपसेफ के भरतपुर संभागीय संयोजक पुरुषोत्तम कुंभज ने बताया कि कर्मचारी का परिवार भीषण महंगाई के कारण 2 जून की रोटी के भी व्यवस्था करना कठिन हो गया है।

     राजस्थान राज्य नर्सेज एसोसिएशन के संभागीय प्रदेश मंत्री एवं प्रवोधक संघ के जिलाध्यक्ष प्रभात शर्मा ने कहा कि महंगाई भत्ते की सभी किस्तों का एरियर सहित भुगतान जुलाई में किया जाए एवं एनपीएस को समाप्त कर पुरानी पेंशन को बहाल किया जाए। साथ ही 30 जून को सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों के पेंशन में एक वेतन वृद्धि को जोड़कर पेंशन निर्धारित करने की मांग की!

      इप्सेफ के जिला महामंत्री मनीष पहाड़िया ने बताया कि उपरोक्त बिंदुओं पर प्रधानमंत्री को पूर्व मे भी कई पत्र भेजे जा चुके हैं तथा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जी एवं कैबिनेट सचिव राजीव गाबा से राष्ट्रीय नेताओ की वर्चुअल बातचीत भी हुई थी। देशभर का कर्मचारी आस लगाए बैठा है कि 1 जुलाई को महंगाई भत्ते की सभी बकाया किस्तों का एरियर सहित भुगतान हो जाएगा। खाद्य सामग्री, पढ़ाई, लिखाई एवं पेट्रोल डीजल की लगातार बढ़ोतरी से उसकी आर्थिक स्थिति खराब हो गई है। वह कर्जदार होता जा रहा है। इसलिए महंगाई भत्ते की किस्तों का भुगतान आवश्यक हो गया है। पुरानी पेंशन ना मिलने के कारण एनपीएस वाले कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति होने पर और उसके परिवार को बड़ी दयनीय स्थिति हो जाएगी। यह सोचनीय विषय है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की महामारी में कर्मचारियों ने जान की बाजी लगाकर जनता की सेवा की है और बीमारी पर नियंत्रण भी प्राप्त कर लिया है इसमें आउटसोर्सिंग/संविदा कर्मचारियों का भी विशेष योगदान है सरकार को उनकी सेवाओं की महत्ता को समझ कर नियमित करना चाहिए।

         प्रवोधक संघ के रामकुमार शर्मा ने कहा कि राजस्थान सहित कुछ राज्य सरकारों ने कई भत्तों एवं वेतन की भी कटौती की थी उसे वापस किया जाए तथा निजी अस्पतालों /संस्थानों में कोरोना बीमारी का इलाज करवाये कर्मचारियों का चिकित्सा प्रतिपूर्ति  किया जाय।

इप्सेफ नेताओं ने प्रधानमंत्री जी को बताया है कि यदि कर्मचारियों की मांगों की अनदेखी की गई तो देश भर के करोड़ो कर्मचारी एवं उनका परिवार की नाराजगी से सरकार को आगामी चुनाव में भारी नुकसान उठाना पड़ेगा और कर्मचारी आंदोलन करने के लिए बाध्य होगा। ज्ञापन देने बालों मे आज राशिक बेग, दाताराम गुर्जर, मनोज पोशवाल, शैलेंद्र चौधरी, सुरेश लोधा, लोकेश तिवारी इत्यादि शामिल थे!

संवाददाता- राकेश गोस्वामी, धौलपुर, राजस्थान

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप YouTube से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Twitter से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − eighteen =

Back to top button