नगर निकायों में बाढ़ राहत-बचाव व संचारी रोगों के नियंत्रण पर की चर्चा   

प्रदेशभर में भारी बारिश के चलते कई जिलों में बाढ़ से तबाही जैसी हालात बने हुए जिससे प्रभावित गांवों का आम जनजीवन अस्त-व्यस्त नजर आ रहा है। साथ किसानों की फसलें पूरी तरह बर्बाद होती दिख रही है। प्राकृतिक आपदा जैसे इन हालातों को देखते हुए वर्तमान प्रदेश सरकार इस पर प्रभावी कदम उठा रही है। इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री एके शर्मा ने प्रदेश में बाढ़ प्रभावित जिलों में बाढ़ राहत और प्रबंधन कार्यों की समीक्षा करते हुए बाढ़ प्रभावित जिलों के नगर निकायों में राहत-बचाव व संचारी रोगों के निवारण के लिए जरूरी व्यवस्थाए करने को कहा।

लखनऊ (आरएनएस )

 उन्होंने जलभराव की स्थिति में पानी की बेहतर निकासी तय करने और जिन इलाकों से पानी निकल गया है वहां सफाई करके दवा का छिड़काव सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। इस अवसर पर नगर विकास मंत्री ने स्थानीय निकाय निदेशालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की। इस दौरान बाढ़ प्रभावित जिलों के नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों के साथ नगर विकास प्रतिनिधि भी जुड़े। नगर विकास मंत्री एके शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में प्रमुख सचिव अमृत अभिजात, विशेष सचिव सुनील कुमार चौधरी, निदेशक स्थानीय निकाय नेहा शर्मा के संग अन्य विभागीय अधिकारी भी मौजूद रहे। एके शर्मा ने अम्बेडकरनगर, अयोध्या, आजमगढ़, बहराइच, बलरामपुर, बाराबंकी,बस्ती, बुलंदशहर, गोरखपुर, लखीमपुर खीरी, कुशीनगर, महाराजगंज,मऊ, गोंडा, संत कबीरनगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, सीतापुर समेत अन्य जिलों के नगर निकाय के प्रतिनिधियों से बातचीत की और मंत्री ने सभी नगर निकायों की स्थितियों का जायजा लिया। इस दौरान राज्य के बरेली मंडल के प्रभारी मंत्री के रूप में मंडलायुक्त एवं मंडल के चारों जिलों के अधिकारियों के साथ वर्षा व जल भराव से उत्पन्न परिस्थतियों को जाना। इस बैठक में ऊर्जा विभाग के उच्च अधिकारी भी उपस्थित रहे। मंत्री ने प्रदेश की सभी नगर निकायों को जलभराव की स्थिति से निपटने के लिए बेहतर प्रबंधन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिन इलाकों में पानी भरा है उसे वहां से पानी की निकासी सुनिश्चित की जाए। जलभराव की स्थिति के बाद संचारी रोग फैलने की आशंका रहती है। संचारी रोग न फैलें इसके लिए सतर्कता बरतनी होगी। उन्होंने एंटी लार्वा दवा का छिड़काव सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी नगर निकायों को कहा कि किसी भी मेनहोल का ढक्कन न खुला रह जाए ऐसे में हादसे की आशंका बनी रहती है। मंत्री ने बाढ़ प्रभावित नगर निकायों में हेल्पलाइन नम्बर जारी करने का सुझाव दिया। इससे प्रभावित व्यक्ति सीधे मदद प्राप्त कर सकेंगे। इसके अलावा, उन्होंने जीर्ण-शीर्ण मकानों की स्थिति का जायजा लेने और प्रभावी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। इतना ही नहीं उन्होंने सभी नगर निकायों को गौशालाओं पर विशेष ध्यान देने के लिए कहा। साथ ही उन्होंने मंत्री ने प्रभावी इलाकों में जल्द से जल्द बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए।

Tags : #UPNews #UttarPradesh #Lucknow #Health #CommunicableDiseases #Hindinews #Meeting #UrbanDevelopmentMinister #AKsharma

Rashtriya News

Related Articles

Back to top button