मौसम के अनुकूल फल व सब्जियों की खेती किसानों के लिए लाभदायक

कुशीनगर। सोमवार को जिलाधिकारी रमेश रंजन, मुख्य विकास अधिकारी गुंजन द्विवेदी द्वारा ग्राम पंचायत दुमही विकास खंड दुदही क्षेत्र में ड्रैगन फ्रूट, स्ट्रॉबेरी व अन्य फल व सब्जियों की खेती का निरीक्षण किया। निरीक्षण के क्रम में जिलाधिकारी ने उक्त कृषि में आने वाली लागत, मौसम की अनुकूलता, सिंचाई, विपणन व्यवस्था, बाजार में मांग, मांग के सापेक्ष उत्पादन, मुनाफा आदि की जानकारी ली।

इसी क्रम में प्रगतिशील कृषक लालजी कुशवाहा द्वारा जिलाधिकारी को जानकारी प्रदान की गई। तत्पश्चात जिलाधिकारी द्वारा आत्मा योजनांतर्गत कृषकों के जनपद स्तरीय भ्रमण व प्रशिक्षण कार्यक्रम में भी प्रतिभाग किया गया। इस अवसर पर कृषकों को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि पहले की कृषि जीवीकोपार्जन कृषि हुआ करती थी। अब यह आय का एक महत्वपूर्ण साधन हो चुका है। जिलाधिकारी ने कहा कि बाजार में जितनी भी चीजें मिलती हैं कहीं न कहीं उसका संबंध कृषि से है और उसके अन्नदाता कृषक हैं। जिलाधिकारी ने कृषक लाल जी कुशवाहा को धन्यवाद अर्पित करते हुए कहा कि ड्रैगन फ्रूट, स्ट्राबेरी के साथ-साथ नई किस्म की पत्ता गोभी, ब्रोकली, केला की कृषि से भी आय प्राप्त की जा सकती है। जिलाधिकारी ने कहा कि यह आय का एक अच्छा स्रोत होने के साथ-साथ मुनाफे का भी अच्छा स्रोत है।

जिलाधिकारी ने किसानों का उत्साह वर्धन करते हुए जैविक कृषि, एफपीओ आदि की भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि कृषकों द्वारा फसल उत्पादन के साथ-साथ उसकी पैकेजिंग व विक्रय भी खुद के द्वारा करने से मुनाफे की प्रतिशतता बढ़ जाती है । उन्होंने बताया कि आय वृद्धि का यह एक अच्छा विकल्प है। भारत सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार की अलग-अलग योजनाओ से कृषकों को सहयोग मिलता है। जिलाधिकारी ने उपस्थित कृषकों से यह उम्मीद जताई कि समय के साथ नई चीजों को अडॉप्ट किया जाना चाहिए। कृषको से अपील करते हुए उन्होनें कहा कि स्ट्राबेरी, ड्रैगन फ्रूट व अन्य फल और सब्जियों की खेती हेतु कृषि फार्म को विजिट करें उन्होंने कहा कि अब खेत पर ही खरीददारी संभव है। समय के साथ नई तकनीकी नई चीजों का पालन करना जरूरी है । उनका कहा कि अन्नदाता कृषक देश की जीडीपी बढ़ाने में काफी महत्वपूर्ण योगदान रखते हैं।

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि वे ड्रैगन फ्रूट की खेती पहली बार देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह एक विदेशी फल है किंतु इसकी मांग भारत में बढ़ती जा रही है। कार्यक्रम का उद्देश्य बताते हुए उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य किसानों को प्रेरित करना है। इस अवसर पर जिला उद्यान अधिकारी कृष्ण कुमार ने सरकारी योजनाओं की चर्चा करते हुए बताया कि इस प्रकार के खेती के अनुकूल ड्रिप सिंचाई में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत सरकार द्वारा 90% तक अनुदान दिया जाता है। उन्होंने ड्रैगन फ्रूट की खेती हेतु मिट्टी, पानी ,अपनाए जाने वाले सतर्कता के बारे में किसानों से चर्चा की। इस अवसर पर कृषक लालजी कुशवाहा ने भी अपने अनुभव साझा किये। उन्होंने कहा कि उनसे प्रेरित हो गांव के कुछ और कृषकों ने इसकी खेती करनी शुरू कर दी।

Tag: #nextindiatimes #dragonfruit #strawberry #dm #weather #farmers #farming #fpo

Related Articles

Back to top button