CRPF जवान की अनौखी पहल, खेती से कमाया मुनाफा, आप भी इस खबर को पढ़कर अपना ‘भविष्य’ संभाल सकते हैं!

एक कहावत है कि अगर मन मे कुछ करने का जज्बा हो तो उम्र कभी आड़े नही आती। इस कहावत को सच कर दिखाया है  सीआरपीएफ से रिटायर्ड को चुके चंद्रप्रकाश आर्य ने। मुरादाबाद के रहने वाले और 22 साल तक देश की सेवा करने वाले जवान चंद्रप्रकाश आर्य की पहचान अब एक प्रतिभाशाली किसान के तौर पर बन चुकी है। चंद्र प्रकाश अब मशरूम की खेती से अच्छा खासा मुनाफा कमाने के साथ ही बेरोजगार युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए निशुल्क प्रशिक्षण दे रहे हैं।

चंद्रप्रकाश आर्य अब हर तीसरे दिन अपने यूनिट पर आने वाले बेरोजगार युवाओं को मशरूम की खेती करने के लिए तकनीकी गुर सिखा रहे हैं। इस प्रशिक्षण से युवा आत्मनिर्भर बनने की दिशा में अपने कदम बढ़ा रहे हैं।

अपनी इस पहल से चंद्र प्रकाश कहते हैं कि “सेना से रिटायर्ड होने के बाद उनका समाज के लिए कुछ करने का उनका मन था इसलिए उन्होंने सोचा कि क्यों न किसी ऐसी चीज की खेती की जाए जिससे लोगों के स्वास्थ्य को लाभ पहुंच सके। इसी वजह से मशरूम की खेती का प्रशिक्षण लेकर मशरूम की खेती करना शुरू कर दिया। आज मशरूम का अपनी यूनिट से बहुत अच्छा उत्पादन हो रहा है। मशरूम की खेती सिर्फ 60 दिन में तैयार हो जाती है साथ ही इस खेती से दुगने से तिगुना मुनाफा भी हो जाता है। जो भी माल हमारी यूनिट में तैयार होता है वह हाथों हाथ बिक भी जाता है”।

इस यूनिट में मशरूम का प्रशिक्षण लेकर बेहद खुश हैं। प्रशिक्षार्थी जीपी पांडे कहते हैं कि यह काम कम जगह में कम समय में और कम पैसों से शुरू किया जा सकता है और इससे अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है। सेहत के प्रति जागरूक रहने वाले लोग मशरूम को काफी तवज्जो देते हैं।

चंद्र प्रकाश के साथी जवान और बेरोजगार युवक भी अब चंद्र प्रकाश की इस पहल से मशरूम का प्रशिक्षण लेकर अपनी यूनिट लगाने की तैयारी कर रहे हैं। प्रशिक्षार्थी मिलन कहते है कि यह बहुत अच्छा काम है कम जगह कम समय और कम पैसों से शुरू होकर ज्यादा मुनाफा देने वाला काम है । सेहत के प्रति जागरूक रहने वाले लोग मशरूम को काफी पसंद भी करते है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × three =

Back to top button