राजस्थान के धौलपुर जिले में मगरमच्छों का आंतक, दो युवकों पर हमला, इलाके में सनसनी

चंबल नदी में बारिश के समय में अधिकांश मगरमच्छ एवं घड़ियालों का खतरा बना रहता है। चंबल नदी के इलाकों में रहने वाले कई लोग मगरमच्छ के हमले में अपनी जान गवा चुके हैं। लेकिन हमलों के बावजूद भी लोग सावधानी नहीं बरत रहे हैं।

राजस्थान के धौलपुर जिले में मगरमच्छ के हमले की दो ऐसी खबरें आई हैं जिससे इलाके में सनसनी फैल गई है। जिले के बसई डांग थाना इलाके में चंबल नदी में पानी भरने गए 19 वर्षीय युवक पर मगरमच्छ ने जानलेवा हमला कर दिया। युवक के हाथ पैर एवं पेट में गंभीर घाव होने पर परिजनों ने जिला अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया है। जहां युवक का उपचार किया जा रहा है।

मामले पर बोलते हुए बसई डांग क्षेत्र के पूर्व सरपंच महेश गुर्जर ने बताया कि उसका 19 वर्षीय भतीजा अजय पुत्र अमरेश खेतों पर काम कर रहा था। खेतों पर काम करने के बाद युवक चंबल नदी में पानी भरने गया। युवक ने जैसे ही नदी किनारे से पानी करने का प्रयास किया उसी वक्त मगरमच्छ ने घात लगाकर हमला कर दिया। मगरमच्छ युवक को पकड़कर नदी में ले जाने लगा। युवक की चीख-पुकार सुनकर खेतों पर काम कर रहे अन्य लोग मौके पर पहुंच गए। जिन्होंने पत्थर एवं डंडे मार कर कड़ी मशक्कत के बाद युवक को मगरमच्छ के जबड़े से मुक्त कराया। लेकिन युवक के पेट एवं हाथ पैरों में गंभीर घाव हो गए। परिजनों ने युवक को नाजुक हालत में जिला अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया है। जहां चिकित्सकों द्वारा उपचार किया जा रहा है।

वहीं दूसरी ओर जिले के सरमथुरा थाना क्षेत्र के गांव काली तीर में चंबल नदी के घाट पर बकरियों को पानी पिलाने गए 15 वर्षीय किशोर पर मगरमच्छ ने जानलेवा हमला कर दिया। मगरमच्छ द्वारा किए गए हमले में किशोर गंभीर रूप से घायल हो गया। किशोर के हाथ एवं पैरों में गंभीर चोट आने पर उसे जिला अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया है। जहां चिकित्सकों द्वारा उपचार किया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक सरमथुरा थाना क्षेत्र के गांव काली तीर निवासी 15 वर्षीय मातादीन पुत्र लाखन सिंह बकरियों को चंबल नदी के घाट पर पानी पिलाने गया था। नदी के किनारे पर मातादीन खड़ा हुआ था। लेकिन अचानक घात लगाकर मगरमच्छ ने किशोर के पैर को पकड़ लिया। मगरमच्छ किशोर को पानी की तरफ खींचने लगा। किशोर ने जब हाथों से बचाने का प्रयास किया तो हाथों को भी मगरमच्छ ने जबड़े के अंदर जकड़ लिया। किशोर की चीख-पुकार सुनकर स्थानीय लोग मौके पर पहुंच गए। जिन्होंने पत्थर एवं डंडे मार कर किशोर को मगरमच्छ से मुक्त कराया। बालक के हाथ,पैर और शरीर में अन्य जगहों पर गंभीर जख्म हुए हैं। जिसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया है।

चंबल नदी के तटवर्ती इलाकों में लगातार मगरमच्छ हमलावर हो रहे हैं। लेकिन प्रशासन की समझाइश के बाद भी लोग जागरुक नहीं हो रहा है। चंबल नदी में बारिश के समय में अधिकांश मगरमच्छ एवं घड़ियालों का खतरा बना रहता है। चंबल नदी के इलाकों में रहने वाले कई लोग मगरमच्छ के हमले में अपनी जान गवा चुके हैं। लेकिन हमलों के बावजूद भी लोग सावधानी नहीं बरत रहे हैं।

गौरतलब है कि चंबल नदी के घाट पर आएदिन मगरमच्छों के हमले होते रहते हैं। सरकार पूर्व में ही चंबल नदी को घड़ियाल क्षेत्र घोषित कर चुकी है। मगरमच्छों के हमलों को देखते हुए प्रशासन लगातार सजग रहने की चेतावनी देता रहा है। उसके बावजूद ग्रामीण गंभीर नहीं है। जिसके कारण आए दिन मगरमच्छों का शिकार होते रहते है।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप YouTube से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Twitter से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
नेक्स्ट इण्डिया टाइम्स समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × 2 =

Back to top button