पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर कांग्रेस जनों ने दी भावभीनी श्रद्धांजलि

 पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर आज पूरे उत्तर प्रदेश में कांग्रेसजनों ने उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्हे युगदृष्टा और भारत में संचार क्रांति का जनक बताते हुए कांग्रेस ने कहा कि उन्होंने देश को इक्कीसवीं सदी के भारत का सपना दिया और राष्ट्रीय एकता के लिए जीवन कुर्बान कर दिया।
लखनऊ में कालिदास मार्ग और मॉल एवेन्यू चौराहों पर स्व.राजीव गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण के लिए आज सुबह भारी संख्या में कांग्रेस जन जुटे। इसके बाद पार्टी मुख्यालय स्थित राजीव गांधी सभागार में हुई गोष्ठी में वक्ताओं ने उनकी कुर्बानी को याद किया। वक्ताओं ने कहा कि संजय गांधी के निधन के बाद उत्पन्न हुई विशेष परिस्थिति में राजनीति से दूर रहे राजीव गांधी राजनीति में आये और अपने सौम्य व्यवहार और कुशल नेतृत्व की वजह से जल्दी ही राजनीतिक क्षितिज पर छा गये। इंदिरा गांधी की शहादत के बाद उन्होंने बतौर प्रधानमंत्री देश की बागडोर संभाली और देश को इक्कीसवीं सदी की चुनौतियों के लिए तैयार करने में जुट गये। उन्होंने सबसे पहले कंप्यूटर के महत्व से देशवासियों को परिचित कराया। देश में संचार क्रांति की आधारशिला रखी जो शुरुआती पीसीओ बूथ से चलते हुए आज हर हाथ में मोबाइल तक पहुँची। उन्होंने नवोदय विद्यालयों की कल्पना की जो राष्ट्रीय एकता के लिहाज से एक महत्वपूर्ण पहल थी।

लखनऊ (आरएनएस) 

वक्ताओं ने कहा कि 18 साल के युवाओं को मताधिकार देने से लेकर पंचायती राज तक की उनकी क्रांतिकारी सोच ने भारतीय समाज का नक्शा बदल दिया। दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सहयोग संगठन यानी सार्क के ज़रिये उन्होंने पड़ोसी देशों से संबंध सुधारते हुए उन्हें एक आर्थिक मोर्चे में बदलने का ऐतिहासिक काम किया। यही नहीं 1986 में गांव-गांव शुद्ध पेयजल पहुँचाने की उनकी योजना ने ग्रामीण भारत के स्वास्थ्य में उल्लेखनीय सुधार किया।
इस अवसर पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उनसे निजी संबंधों को भी याद किया। उन्होंने बताया कि राजीव गांधी का मुस्कराता सौम्य चेहरा नौजवानों में जोश भर देता था। उनके नेतृत्व में पार्टी जिस तरह पूरे भारत में मज़बूत हुई, वह मिसाल है। उनके साथ बहुत छल हुआ लेकिन उन्होंने कभी कटुता नहीं दिखाई। उन्होंने भी इंदिरा गांधी की तरह राष्ट्रीय एकता के लिए जीवन कुर्बान करने की शपथ ली थी और वे सचमुच भारत के लिए कुर्बान हो गए। उनके बताए रास्ते पर चलकर कांग्रेस पार्टी एक बार फिर अपना गौरव वापस पा सकती है।  
इस मौके पर कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव तौकीर आलम प्रदेश उपाध्यक्ष एवं विधायक वीरेन्द्र चौधरी, पूर्व विधायक एवं कोषाध्यक्ष सतीश अजमानी, श्याम किशोर शुक्ला, पूर्व मंत्री एवं मीडिया विभाग के चेयरमैन  नसीमुद्दीन सिद्दीकी, प्रदेश महासचिव दिनेश सिंह, महासचिव शिव पाण्डेय, विवेकानंद पाठक, प्रदेश सचिव शहनवाज मंगल आजमी, मीडिया विभाग के वाइस चेयरमैन पंकज श्रीवास्तव, लखनऊ जिलाध्यक्ष वेद प्रकाश त्रिपाठी, शहर अध्यक्ष दिलप्रीत सिंह डी0पी0 पूर्व शहर अध्यक्ष मुकेश सिंह चौहान, पूर्व जिलाध्यक्ष विजय बहादुर सिंह, पुष्पेन्द्र श्रीवास्तव चेयरमैन सूचना का अधिकार विभाग कांग्रेस, सुबोध श्रीवास्तव, संजय दीक्षित, विकास त्रिपाठी, सिराज वली खान, पूर्व प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह, अनीस अंसारी, संजय शर्मा, तारिक सिद्दीकी, राजेन्द्र पाण्डेय, कांग्रेस प्रत्याशी श्रीमती अर्चना राठौर, रूद्र दमन सिंह बब्लू, मनोज तिवारी, सेवादल मुख्य संगठक मध्य जोन राजेश सिंह काली, नरेश बाल्मीकि, इरशाद, अयूब सिद्दीकी, अचार्य मनोज पाण्डेय, शहनवाज खान, नुसरत अली, सुनीता रावत, अनोखे लाल तिवारी कांग्रेस झण्डा प्रचारक सहित तमाम कांग्रेसजन उपस्थित रहे।

Rashtriya News

Related Articles

Back to top button