छत्तीसगढ़: बस्तर संभाग में मूसलाधार बारिश, कई गांव बने टापू

छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में पिछले 2 दिनों से लगातार हो रही मूसलाधार बारिश की वजह से एक बार फिर सुकमा, बीजापुर के कई गांव टापू में तब्दील हो गए हैं. दंतेवाड़ा में शंखनी नदी से लेकर सुकमा में झापरा का पूल और इंद्रावती में पुराना पुल पूरी तरह से जलमग्न हो गया है. लगातार मूसलाधार बारिश की वजह से जगदलपुर से राजधानी रायपुर को जोड़ने वाली राष्ट्रीय राजमार्ग- 30 में भी 3 फीट तक पानी भर जाने से सोमवार देर रात से इस रूट पर आवागमन प्रभावित हो गया है, जिससे बसों और ट्रकों की लंबी कतार नेशनल हाईवे में लग गई है.

मौसम विभाग ने 3 दिनों के लिए बस्तर संभाग के सभी जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है, ऐसे में 2 दिनों में ही इस भारी बारिश से आम जनजीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है और बाढ़ जैसे हालात उत्पन्न हो गए हैं.

पिछले 48 घंटों में सुकमा- बीजापुर में हुई भारी बारिश 

इस मूसलाधार बारिश से सबसे ज्यादा प्रभावित बीजापुर और सुकमा जिला हुआ है. मौसम विभाग ने पिछले दो दिनों में इन दोनों जिलों मेंअत्यधिक मिलीमीटर  बारिश  दर्ज की है और एक बार फिर इस जिले के कई अंदरूनी गांव टापू में तब्दील हो गए हैं. भारी बारिश की वजह से आये  बाढ़ से कई ग्रामीणों के भी फंसे होने की जानकारी मिल रही है. सुकमा जिले में भी सोमवार शाम को कई ग्रामीणों को रेस्क्यू कर बाहर निकाला गया, इधर बारिश का कहर लगातार जारी है, मंगलवार सुबह से ही पूरे बस्तर संभाग में झमाझम बारिश हो रही है. ग्रामीण क्षेत्रों के साथ-साथ शहरी इलाकों में भी कई घरों में लबालब पानी भर गया है.

Related Articles

Back to top button